इंदौर कलेक्टर बोले कि 30 अप्रैल तक लॉकडाउन के लिए तैयार रहें

नगर संवाददाता | इंदौर

घरों तक राशन पहुंचाने के लिए निगम और प्रशासन की पुख्ता तैयारी

शहर में कोरोना वायरस से पॉजिटिव मरीजों की संख्या का आंकड़ा 213 तक पहुंच चुका है, ऐसे में लॉकडाउन की अवधि बढ़ना अब निश्चित मानी जा रही है। इसके लिए शहरवासी भी मानसिक रूप से तैयार रहें। जिला प्रशासन ने भी इसके लिए तैयारी कर ली है। कलेक्टर मनीष सिंह ने कहा है कि जितनी जरूरत लोगों को मेडिकल उपचार मुहैया कराने की है, उतनी ही शहरवासियों को खाद्य सामग्री उपलब्ध कराने की भी है। इसीलिए नगर निगम व जिला प्रशासन का अमला दोनों मोर्चों पर काम कर रहा है। 30 अप्रैल तक लॉकडाउन बढ़ाए जाने के लिहाज से हमने जमीनी तैयारियां कर ली हैं।

उन्होंने बताया निगम की सप्लाई चेन सुचारु रूप से काम करती रहे, इसके लिए जरूरी है कि होलसेल व्यापारियों तक माल पहुंचने के बाद रिटेल व्यापारियों को भी पर्याप्त रूप से किराना सामान उपलब्ध हो सके। इसके लिए जिले की 15 आटा मिलें और 10 दाल मिलें खोलने के आदेश दिए गए हैं। इसके साथ ही शहर में चावल की कमी न हो इसके लिए हरियाणा के होलसेल चावल व्यापारियों को लाखों क्विंटल के ऑर्डर एडवांस में दे दिए हैं। 50 हजार किलो नमक और 15 लाख लीटर तेल के अलावा शहर में लाखों किलो मसाले व्यापारियों के पास स्टॉक में हैं। इसीलिए फिलहाल चिंता की कोई बात नहीं। शहरवासियों के लिए दो तरह से किराना सामान पहुंचाने की व्यवस्था बनाई गई। वर्तमान में कई लोगों तक किराना सामान पहुंचने में देरी हो रही इसका यह मतलब नहीं है कि शहर में किसी भी प्रकार के खाद्य पदार्थ की कमी यह सिस्टम धीरे धीरे पटरी पर आ जाएगा। वर्तमान में ऑर्डर अधिक संख्या में मिल रहे हैं जिसके चलते ऑनलाइन ऑर्डर लेने वाले सुपर बाजार भी पर्याप्त डिलिवरी नहीं कर पा रहे हैं। यही हाल निगम का भी है इसके लिए लगातार होलसेल व्यापारियों की संख्या बढ़ाई जा रही है।

जल्द पटरी पर आएगी व्यवस्था

निगमायुक्त आशीष सिंह ने कहा इस दौरान शहर में लगभग एक लाख ऐसे गरीब वर्ग के लोग हैं जो दिहाड़ी मजदूरी करके अपना गुजारा करते थे। इसीलिए प्रशासन दोनों वर्ग के लोगों का ध्यान रख रहा है। जो खरीदकर किराना सामान ले सकते हैं, उनके लिए 4 से 5 दिन में होम डिलिवरी व्यवस्था पटरी पर आ जाएगी। वहीं एक लाख गरीब लोगों के लिए 30 हजार क्विंटल गेहूं बुलवाए गए हैं, जनता आटा पिसवाकर पांच-पांच किलो के पैकेट उन तक पहुंचाए जा रहे हैं।

आंकड़ों से पैनिक होने की जरूरत नहीं

लॉकडाउन 15 दिन तक और बढ़ाया जाता है तो इसके लिए प्रशासन ने पूरी तैयारी कर ली है। शहर में हर जरूरतमंद नागरिक तक खाने की सामग्री होम डिलिवरी के माध्यम से पहुंचाई जाएगी। इस लड़ाई को जीतने के लिए जिस तरह स्वास्थ्य मोर्चे पर संघर्ष किया जा रहा है उतना ही जरूरी लोगों तक भोजन सामग्री उपलब्ध कराने के लिए किए भी। आंकड़ों से पैनिक होने की जरूरत नहीं। बस, सावधानी बरतें और घर में रहें, यही जीत का सबसे बड़ा हथियार है।
-मनीष सिंह, कलेक्टर इंदौर

Next Post

शाही परिवार के 150 सदस्यों को कोरोना

Fri Apr 10 , 2020
रियाद सऊदी किंग और क्राउन प्रिंस भी आइसोलेशन में कोरोना वायरस से आम और खास कोई नहीं बचा। आम इंसान हो या हॉलिवुड ऐक्टर हों या बड़े राजनीतिज्ञ इसने सबको अपनी गिरफ्त में लिया है। अब सऊदी अरब से खबर आई है कि शाही परिवार के 150 सदस्यों में कोरोना […]