वो ऐड जिसके सेट पर आफ़ताब शिवदासानी ने रवीना टंडन के हाथ पर ही उल्टी कर दी थी

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर।

रवीना टंडन 90 के दशक के बॉलीवुड की सबसे रौबदार और पर्दे पर अपनी धाक जमाने वाली अभिनेत्रियों में से एक हैं। कोई भी उस दशक की हिंदी फिल्मों को टक्कर नहीं दे सकता है। 1991 में ‘पत्थर के फूल’ से डेब्यू करने से पहले उन्होंने ऐड से लेकर बाकी चीजों पर भी अपना हाथ आजमाया था।

अभी एक ऐड काफी चर्चे में आ रहा है। यह ऐड अब वायरल हो रहा है। इस प्रचार में आफ़ताब हैं और रवीना से जुड़ा एक किस्सा है। ये किस्सा जहां इस ऐड की शूटिंग हो रही थी वहां की है। अपने एक इंटरव्यू में रवीना ने बताया है कि कैसे आफ़ताब ने उनके हाथ पर ही उल्टी कर दी थी।

रवीना मुंबई मिरर को दिए अपने एक इंटरव्यू में बताया कि वह 10 की परीक्षा देने के तुरंत बाद प्रसिद्ध अदनान प्रहलाद कक्कड़ से के साथ काम करने लगीं। वह जुहू में रहती थी और प्रह्लाद के कार्यालय जाने के लिए महालक्ष्मी रेलवे स्टेशन के पास से बस और ट्रेन लेती थी। एक ऐसे टीवीसी की शूटिंग के दौरान मुझे एक भयानक अनुभव हुआ था।

रवीना बताती हैं कि आफ़ताब उस वक़्त 10 साल के थे और सिबाका टूथपेस्ट के ऐड में मेन कैरेक्टर प्ले कर रहे थे। रवीना उस समय सेट को साफ करने की भी जिम्मेदारी संभाल रही थीं। उन्होंने सेट पर तुरंत ही साफ-सफाई की थी। अचानक उनकी निगाह आफताब पर पड़ी तो उन्होंने देखा कि उधर, आफताब की भी तबीयत खराब होने लगी थी। वह बार-बार मुंह ऐसे कर रहा है, जैसे उसे उल्टी होने वाली हो।

रवीना के मुताबिक इस ऐड की शूटिंग करते हुए प्रहलाद कक्कड़ कोई 22-23 टेक ले चुके थे। पर, वह शायद अभी शॉट से संतुष्ट नहीं थे। इस बीच शूटिंग को रोका गया।

आफताब इस ऐड में उस बच्चे की भूमिका में थे जो कि चॉकलेट खाता है और कहता है कि टूथपेस्ट उसका इतना बढ़िया है कि दांतों को कोई नुकसान नहीं होगा।

रवीना फर्श गंदा होने के डर से पहले तो कोई डब्बा ढूंढने लगीं जब कोई भी ऐसी चीज देखने लगीं जिसे इस्तेमाल के लिए वह आफताब को दे सकें। तब अपना हाथ आगे बढ़ा दिया।

आफताब ने भी इस ऐड को ट्विटर पर किसी फैन द्वारा शेयर करने पर रीट्वीट किया है। आफताब इस ऐड को देखने के बाद अब उन दिनों को याद कर बहुत हंसे भी। उन्होंने इसका जिक्र भी किया है।


Next Post

सरकारी रिपोर्ट से आखिर क्यों गायब हैं पॉजिटिव मौतें

Mon Apr 13 , 2020
विनोद शर्मा/संजय त्रिपाठी | इंदौर बड़ा सवाल ? क्या जानबूझकर किया जा रहा है एमजीएम के मेडिकल बुलेटिन में घपला इंदौर में कोरोना संक्रमण बढ़ने की एक वजह स्वास्थ्य अमला है। जो अस्पतालों में मरने वालों को हल्के में ले रहे हैं। कई ऐसे मामले सामने आए हैं जिनमें अस्पतालों […]