एंबुलेंस पर पथराव, डॉक्टर को पीटकर अधमरा किया

मुरादाबाद

आखिर कब सुधरेंगे… मंगलवार देर रात मुरादाबाद में हुई थी एक जमाती की मौत संपर्क में आए लोगों को क्वारंटाइन करने के लिए लेने गई थी मेडिकल टीम

देश में मेडिकल टीम पर हमले की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही हैं। ताजा मामला उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद का है। बताया जा रहा है कि सूचना पर क्वारंटाइन करने वाले लोगों को लेकर निकली मेडिकल टीम पर जमकर पथराव हुआ। इलाके के लोगों ने ऐंबुलेंस क्षतिग्रस्त कर दी और डॉक्टर को पीटने लगे। भीड़ का कहर देखकर पुलिसवाले वहां से भाग गए। बताया जा रहा है कि मुरादाबाद में मंगलवार देर रात एक कोरोना मरीज की मौत हो गई थी। मेडिकल टीम इस मौत के बाद हाजी नेक की मस्जिद के पास से मरीज के संपर्क में आए लोगों को क्वारंटाइन करने के लिए लेने गई थी। एंबुलेस जैसे ही कुछ लोगों को लेकर निकली दर्जनों लोगों ने ऐंबुलेंस को घेर लिया और पथराव शुरू कर दिया।

जान बचाने के लिए पुलिस जवान टीम को छोड़कर भागे

एंबुलेंस में मौजूद डॉ. एससी अग्रवाल को खींचकर लोगों ने पीटना शुरू कर दिया। चारों तरफ से पथराव होने पर वहां मौजूद पुलिस के सिपाही भाग निकले। मेडिकल स्टाफ भी जान बचाकर वहां से भागे जबकि लोगों ने डॉक्टर की जमकर पिटाई की। मेडिकल स्टाफ ने बताया कि लोगों ने वहां उन लोगों को पीटने की पहले से ही तैयारी कर रखी थी। क्योंकि जिस तरह एक आवाज के साथ पथराव शुरू हो गया। इस घटना की सूचना स्थानीय पुलिस और जिला प्रशासन को दी गई। मौके पर पुलिस अधिकारी और अन्य अधिकारी पहुंचे हैं। लोगों को समझाने का प्रयास किया जा रहा है।

डॉक्टर को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इधर घटना के बाद एंबुलेंस स्टाफ ने काम करने से इनकार कर दिया है। उन्होंने कहा है कि अपनी जान इस तरह से जोखिम में डालकर वे काम नहीं करेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा अक्षम्य अपराध, होगी एनएसए की कार्रवाई

घटना को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संज्ञान में लिया है। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग के डॉक्टर्स, स्टाफ और सफाई अभियान से जुड़े अधिकारी, कर्मचारी, सुरक्षा में लगे सभी पुलिस अधिकारी और पुलिस कर्मी इस आपदा की घड़ी में दिन रात सेवा कार्य में जुटे हैं। पुलिस कर्मियों, स्वास्थ्य कर्मियों एवं स्वच्छता अभियान से जुड़े कर्मियों पर हमला एक अक्षम्य अपराध है, वह इसकी घोर निंदा करते हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे दोषी व्यक्तियों के खिलाफ आपदा नियंत्रण अधिनियम तथा राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम (एनएसए) के तहत कार्रवाई की जाएगी।

Next Post

बांद्रा स्टेशन मामले का आरोपी पुलिस हिरासत में

Thu Apr 16 , 2020
मुंबई। मुंबई के बांद्रा रेलवे स्टेशन पर भारी संख्या में प्रवासी मजदूरों की भीड़ इकट्ठा होने के मामले गिरफ्तार किए गए आरोपी विनय दुबे नाम को मुंबई की एक कोर्ट ने 21 अप्रैल तक पुलिस हिरासत में भेज दिया है। विनय दुबे को नवी मुंबई पुलिस ने पकड़ा और मुंबई […]