बीमार बेटी को गोद में उठाकर करती रहीं पुलिस की ड्यूटी

मुरादाबाद

मुरादाबाद में तैनात यूपी पुलिस की एसआई नीशू कडियान की तस्वीर सोशल मीडिया पर लोगों
की प्रेरणा बन गई

कोरोना के इस संकट काल में सारा देश लॉकडाउन के कारण घरों में कैद हो गया है। देश में महामारी के कहर को रोकने की जिम्मेदारी जिन लोगों पर है, उसमें सबसे चुनौतीपूर्ण स्थितियां उन पुलिसकर्मियों पर है, जिन्हें अपने परिवार का ध्यान रखने के साथ साथ समाज में भी ड्यूटी की बड़ी जिम्मेदारी निभानी है।

ड्यूटी के इस फर्ज की चुनौतियां कितनी हैं, इसकी एक तस्वीर सोमवार को मुरादाबाद जिले के पीएसी कैंप के बाहर दिखी। ये तस्वीर यूपी पुलिस की एसआई नीशू कडियान की थी जो कि अपनी एक साल की बिटिया को गोद में लेकर सड़क पर ड्यूटी करती दिखाई दीं। नीशू फिलहाल कोरोना के संकटकाल में मुरादाबाद शहर में लॉकडाउन का पालन कराने को लगाई गई पुलिस फोर्स का हिस्सा हैं। सोमवार को नीशू की तैनाती यहां के 24वीं वाहिनी पीएसी कैंप के बाहर थी। नीशू की बेटी दो रोज से बीमार थी, इसलिए नीशू उसे घर पर छोड़ने को तैयार नहीं थीं। पुलिस की ड्यूटी की जिम्मेदारी भी बड़ी थी, इसलिए एक साल की बेटी को गोद में लिए वह पीएसी कैंप के बाहर सुरक्षा के लिए पहुंच गईं। नीशू की इस तस्वीर को देखकर हर कोई भावुक हो उठा। गोद में बिटिया मां को ड्यूटी करते एकटक देखती रही, वहीं सड़क चलते राहगीरों ने भी नीशू के इस जज्बे को सलाम किया।

मां से दूर नहीं होना चाहती थी

नीशू ने बताया कि उनकी एक साल की बिटिया दो दिनों से अस्वस्थ थी और वह नहीं चाहती थी कि उसकी मां उसे एक पल के लिए भी अकेला छोड़े। ऐसे में नन्ही बच्ची की ख्वाहिश पूरा करने और ड्यूटी के फर्ज को निभाने के लिए नीशू ने उसे गोद में उठाया और ड्यूटी के लिए निकल पड़ीं। उन्होंने कहा कि उनकी बेटी को हल्का फीवर था, लेकिन वह उन्हें ड्यूटी पर जाने नहीं दे रही थी। दूसरी ओर लॉकडाउन के दौरान शहर में पूरी व्यवस्था बनाए रखने की जिम्मेदारी भी थी, इस कारण उन्होंने एक साल की बेटी को गोद में लेकर यहां पर ड्यूटी पूरा करनेका फैसला किया।

Next Post

उस ड्राइवर के परिवार की कहानी जिसे पालघर में सैकड़ों की भीड़ ने मार डाला

Wed Apr 22 , 2020
नेहा श्रीवास्तव, इंदौर।  दो साधुओं की एक वीडियो बहुत वायरल हुई जिसमें वो भीड़ के हत्थे चढ़ गए और उनकी पीट-पीटकर हत्या कर दी गयी। उनके साथ एक और शख्स था जो इस मॉब लीचिंग की भेंट चढ़ा वो उन साधुओं को ले जाने वाला ड्राइवर था। जब भी किसी […]