अपनों ने किया इनकार तो तहसीलदार ने दी मुखाग्नि

प्रजातंत्र ब्यूरो | भोपाल

बेटे-पत्नी ने कोरोना संक्रमित की मौत के बाद शव लेने से कर दिया मना, तो तहसीलदार ने दिखाई मानवता

बैरागढ़ सर्किल में पदस्थ तहसीलदार ने मंगलवार को एक कोरोना संक्रमित मृतक को मुखाग्नि देकर मानवता की मिसाल पेश की। राजधानी के चिरायु अस्पताल में भर्ती शुजालपुर निवासी प्रेम सिंह मेवाड़ा की कोरोना की वजह से दो दिन पूर्व मौत हो गई थी, लेकिन बेटे समेत अन्य रिश्तेदारों ने जब अंतिम संस्कार में सहयोग करने से इनकार कर दिया तो तहसीलदार गुलाब सिंह बघेल ने आगे बढ़कर जिला प्रशासन की तरफ से पूरे विधि-विधान से मृतक का अंतिम संस्कार किया।

प्रेम सिंह के इलाज के दौरान बेटा संदीप मेवाड़ा, अपनी मां और साले के साथ अस्पताल में मौजूद था, लेकिन पिता की मौत के बाद बेटे ने उनका शव लेने से मना कर दिया। मृतक का शव दो दिन तक मरचुरी में ही पड़ा रहा। बेटे ने लिख कर भी दे दिया कि अंतिम संस्कार में सहयोग नही करेंगे। इसके बाद तहसीलदार ने बैरागढ़ श्मशान घाट में पूरे विधि-विधान के साथ अंतिम संस्कार किया।

Next Post

राजस्थान : रैपिड टेस्टिंग किट फेल, कोरोना की जांच बंद

Wed Apr 22 , 2020
जयपुर ड्रैगन का छल… राजस्थान के चिकित्सा मंत्री के अनुसार किट की एक्यूरेसी 90 प्रतिशत होनी चाहिए थी जो महज 5.4 फीसदी साबित हुई है राजस्थान में कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए देश में सबसे पहले शुरू हुए रैपिड टेस्टिंग किट के प्रयोग के नतीजे निराशाजनक साबित […]