एक मजदूर परिवार को पहले शौचालय में रखा गया फिर वहीं खाना भी परोस दिया गया

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर।  

कोरोना वायरस से निपटने के लिए केंद्र के साथ-साथ राज्य सरकारें भी कंधे से कंधा मिलाकर चल रही है। कांग्रेस समेत विपक्षी पार्टी पहले ही साफ कह चुकी है कि ऐसे समय में राजनीति नहीं बल्कि मिलकर इस वायरस से निपटने के लिए रणनीति बनानी होगी। लेकिन एक दंपति कुछ दिनों से शौचालय में खाना खाने से लेकर वहां सो भी रहा है। सुन कर ही अजीब लग रहा है, लेकिन ये दंपति इस वक़्त इसलिए इस स्थिति में हैं क्योंकि इनको एक शौचालय में क्वारंटीन किया गया है।

मजदूर परिवार शौचालय में हुआ क्वारंटीन

शिवराज सरकार की ओर से लोगों के जान से खेलने का ये मामला गुना जिले का है। गुना जिला के देवीपुरा गांव में सहारिया आदिवासी परिवार को कथित तौर पर एक स्कूल के टॉयलेट में क्वारनटीन पर रखा गया। आरोप है कि राजगढ़ जिले से लौटे इस परिवार के साथ ऐसा किया गया। टॉयलेट में खाने की थाली के साथ परिवार के मुखिया भैया लाल की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो गई।

आला अधिकारी बता रहे शराब के नशे में शौचालय पहुंचा

मामला सामने आने पर दंपती को स्कूल भवन में शिफ्ट कर दिया गया है। गुना के कलेक्टर एस. विश्वनाथ ने बताया कि टोडरा गांव में शौचालय में रहते मजदूर का जो फोटो आया है, दरअसल वह मजदूर शराब के नशे में शौचालय में पहुंच गया था। उसकी पत्नी ने शौचालय में भोजन परोस दिया।

यह बात जांच में सामने आई है। राघौगढ़ जनपद सीईओ जितेंद्र सिंह धाकरे ने कहा कि मजदूर को शौचालय में क्वारंटाइन नहीं कि या गया था। फिर भी जांच के आदेश दिए गए हैं। अगर अफसर और अन्य लोग इसमें दोषी पाए जाते हैं तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

आरोप प्रत्यारोप चल रहा

विपक्षी कांग्रेस पार्टी ने इस घटना को लेकर बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया पर निशाना साधा है। कांग्रेस ने ट्वीट में कहा, “यह गुना की एक तस्वीर है, जहां एक परिवार को टॉयलेट में क्वारनटीन पर रखा गया है। जो लोग हर किसी मुद्दे पर सड़कों पर उतरने की धमकी देते थे, वो लोगों की नजरों से उतर गए हैं।”

क्यों किया गया है क्वारंटीन

दरअसल भैया लाल सहारिया, अपनी पत्नी भूरी बाई और दो बेटों के साथ शुक्रवार शाम को अपने गांव देवीपुरा लौटे थे। ग्रामीणों ने उन्हें तब तक गांव में घुसने देने से इनकार कर दिया जब तक कि इस पूरे परिवार का कोरोनावायरस टेस्ट नहीं हो जाता। स्थानीय प्रशासन के अनुसार परिवार को रात प्राइमरी स्कूल में बिताने के लिए कहा गया।

रविवार की सुबह स्वास्थ्य और जिला प्रशासन के अधिकारियों की एक टीम स्कूल पहुंची। इस टीम ने भैया लाल सहरिया को टॉयलेट के अंदर खाने की थाली के साथ देखा। टीम के एक सदस्य ने तस्वीर खींच कर स्वास्थ्य विभाग के निगरानी अधिकारियों को भेज दी। वही तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो गई। 

Next Post

दिल्ली का ये बॉयज ग्रुप धड़ल्ले से करता है 'गैंगरेप' की प्लानिंग

Mon May 4 , 2020
नेहा श्रीवास्तव, इंदौर।   एक ट्विटर यूजर ने 3 मई को ‘Bois Locker Room’ नाम के एक इंस्टाग्राम चैट ग्रुप के बारे में ट्वीट किया। इस ट्वीट के स्क्रीनशॉट पढ़ने के बाद आपको लगेगा आप किसी पॉर्न चैट की साइट खोल कर बैठ गए हों। दरअसल इस ट्वीट में यूजर ने […]