लॉकडाउन एक ने तोड़ा, संक्रमण की सजा पूरे परिवार को झेलनी पड़ी, घर भी बने एपिसेंटर

विनोद शर्मा | इंदौर

इंदौर में कई परिवारों के 2 से लेकर 15 सदस्य तक संक्रमित

हमारी कॉलोनी में संक्रमण नहीं है..! बाहर जाने से कुछ नहीं होता..! बार-बार हाथ कौन धोए..! मास्क कौन पहने…! सैनिटाइजर चोचला है..! बाजार जाकर तो देखें, क्या माहौल है..! कोरोना को हल्के में लेकर आप न सिर्फ अपने लिए बल्कि अपने घर के बुजुर्गों और मासूमों की जान खतरे में डाल रहे हैं। इसका उदाहरण ऐसे कई परिवार हैं जिनमें 60 साल के दादा-दादी से लेकर 1-2 साल के बच्चे तक संक्रमण का शिकार हो जिंदगी की जंग लड़ रहे हैं। इसीलिए ‘प्रजातंत्र’ परिवार भी आपसे अपील करता है कि ओवर कॉन्फिडेंस छोड़ें। घर में रहें। सुरक्ष्रित रहें। परिवार को सुरक्षित रखें।

लोगों के डिस्चार्ज होने की अच्छी खबरों के बीच कोरोना संक्रमण को लेकर गंभीर खबरें गली-मोहल्लों से आ रही हैं। जहां लोगों के ओवर कॉन्फिडेंस ने कॉलोनी या मोहल्ले को ही संक्रमित ही नहीं किया, बल्कि अपने पूरे परिवार को अस्पताल में पहुंचा दिया है। ताजा उदाहरण नया एपिसेंटर आदर्श बिजासन नगर है। जहां 14 मई को 20 लोगों के सैंपल की जांच हुई। 9 संक्रमित निकले।

इनमें 6 एक ही परिवार के हैं। इस बस्ती में ऐसे घर और भी हैं जहां 4 या 4 से अधिक मरीज हैं। इसके अलावा शंकरगंज में दो परिवारों के 15 सदस्य संक्रमित हैं, जिनमें दादा-दादी से लेकर बच्चे तक शामिल हैं।

126-127 पेनजॉन कॉलोनी में 14 संक्रमित

126-127 पेंजॉन कॉलोनी में कुल 14 संक्रमित हैं। इनमें 10 मई को 13 संक्रमित निकले थे जबकि 14वां संक्रमित 14 मई को सामने आया। इनमें 85 वर्षीय लीला काले से लेकर 4 साल का पारस काले भी संक्रमण से जूझ रहा है। यही स्थिति महंत कॉम्पलेक्स में है, जहां 8 संक्रमित हैं जिनमें 67 वर्षीय दादा नरेंद्र और 10 साल की पोती पहल जैन की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। शक्कर बाजार में राजेंद्र सोनी और 10 साल का पोता तनिष्क सोनी और त्रिवेदीनगर में दादी लक्ष्मी बागड़ी और उनकी 3 साल की पोती दिव्यांशी की हालत भी खराब है।

संक्रमित क्षेत्रों की संख्या 350 से ज्यादा : सख्ती से पालन कराए जा रहे लॉकडाउन के बावजूद लोगों के ऐसे ही रवैये के चलते इंदौर में संक्रमित क्षेत्रों की संख्या बढ़कर 350 से अधिक हो गई है। समस्या यह है कि ओवर कॉन्फिडेंस के चलते लोगों में संक्रमितों और मृतकों की संख्या का डर तक नहीं है।

आठ और क्षेत्र हुए संक्रमित सूची से बाहर

राऊ क्षेत्र की चार कॉलोनियों को संक्रमित क्षेत्रों की सूची से बाहर करने के बाद शुक्रवार को जिला प्रशासन ने शहरी क्षेत्र की 8 कॉलोनियों को डीनोटिफाई कर दिया। इनमें कान्यकुब्ज नगर, ओम विहार, विद्या पैलेस, गुरुकृपा कॉलोनी, सुतार गली, रतलाम कोठी, मिश्रा विहार, गीता भवन और 4 जवाहर मार्ग, सांवेर शामिल हैं।

Next Post

देश के 254 गांव दशकों से लॉकडाउन जैसी स्थिति में

Sat May 16 , 2020
कोलकाता कोरोना की वजह से भारत में 50 दिनों से लॉकडाउन है। आम लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है, लेकिन भारत-बांग्लादेश सीमा पर कई गांव ऐसे हैं जो कई पीढ़ियों और दशकों से लॉकडाउन जैसी स्थिति में रह रहे हैं। सीमा पर ये गांव नो मैस […]