अब प्रियंका पर आरोप है कि मजदूरों के बसों की लिस्ट की आड़ में तिपहिया वाहन के नंबर शामिल

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सलाहकार मृत्युंजय कुमार ने दावा किया है कि इस लिस्ट में घालमेल है। आदित्यनाथ के सलाहकार मृत्युंजय कुमार ने दावा किया है कि कांग्रेस ने राज्य सरकार को जो बसों की लिस्ट दी है, उसमें कई नंबर तिपहिया वाहन, मोटरसाइकिल और कार के हैं।

लॉकडाउन में फंसे उत्तर प्रदेश के प्रवासी मजदूरों को घर पहुंचाने को लेकर अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी बीच सियासत शुरू हो गई है।

अभी तक नहीं मिला बसों को रवाना करने का परमिट

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने यूपी सरकार को मजदूरों को घर पहुंचाने के लिए कांग्रेस की ओर से 1000 बसें देने की पेशकश की थी। इसे सीएम योगी आदित्यनाथ ने स्वीकार कर लिया था और प्रियंका गांधी को बसों की लिस्ट राज्य सरकार को सौंपने को कहा था।

उत्तर प्रदेश सरकार ने उस सूची का निरीक्षण करने के बाद अब कांग्रेस पर आरोप लगाया  है कि इस सूची में बाइक और अन्य गाड़ियों के भी नंबर दिए गए हैं। मुख्यमंत्री के सूचना सलाहकार मृत्युंजय कुमार ने बताया कि कांग्रेस के बसों की सूची में मोटरसाइकिल तिपहिया वाहनों और कार के नंबर शामिल हैं।

उत्तर प्रदेश सरकार मजदूरों की मदद नहीं करना चाहती

अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने फिर प्रियंका गांधी के निजी सचिव को चिट्ठी लिखी और कहा कि अगर लखनऊ बस नहीं भेज सकते तो नोएडा और गाजियाबाद बॉर्डर पर बसों का परमिट, फिटनेस, इंश्योरेंस के कागज और ड्राइवर के लाइसेंस उपलब्ध कराए जाएं। उन्होंने कहा कि ये सब चीजें चेक करके यूपी सरकार ये बसें चलाएगी।


कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू का कहना है कि सरकार जानबूझकर गुमराह कर रही है। इनकी आईटी सेल नंबरों में हेराफेरी करके यह काम कर रही है। मैं स्वयं फतेहपुर सीकरी में राजस्थान बॉर्डर पर मौजूद हूं। हमारी बसें तैयार हैं। सरकार अनुमति दे, तत्काल चलवा देंगे।

वहीं प्रियंका गांधी वाड्रा के कार्यालय ने मंगलवार को आरोप लगाया “श्रमिकों को उनके गंतव्य तक ले जाने के लिए दिल्ली-उत्तर प्रदेश सीमा पर खड़ी 1000 बसों को दस्तावेज समेत लखनऊ भेजने की उत्तर प्रदेश शासन की मांग राजनीति से प्रेरित है और लगता है कि प्रदेश सरकार मुश्किल में फंसे मजदूरों की मदद नहीं करना चाहती।”

बसों के लिस्ट में हेरफेर को लेकर हो रही है बैठक

इससे पहले इंडिया टीवी के स्पेशल शो ‘मुख्यमंत्री सम्मेलन’ में प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि उन्होंने कांग्रेस से बसों की लिस्ट मांगी थी, लेकिन लिस्ट नहीं दी गई है।

इसके बाद अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी की तरफ से प्रियंका गांधी वाड्रा के निजी सचिव को पत्र लिखा गया और रात को प्रियंका गांधी की तरफ से बसों की लिस्ट ड्राइवर और कंडक्टर के नाम के साथ पहुंचा दी गई लेकिन जब यूपी सरकार ने लिस्ट की जांच की तो पाया कि इसमें कई ऐसी गाड़ियों के नंबर हैं जो टू व्हीलर, कार या थ्री व्हीलर के हैं।

इधर कांग्रेस द्वारा दी गई बसों के लिस्ट में हेरफेर को लेकर यूपी सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थनाथ सिंह के घर एक बैठक चल रही है। इस बैठक में लखनऊ कमिश्नर, डीएम समेत सभी वरिष्ठ अधिकारी मौजूद हैं।


Next Post

अब चीनी वैज्ञानिकों का कहना है कि वैक्सीन से नहीं इस दवा से रुकेगा कोरोना

Tue May 19 , 2020
नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। दुनियाभर के वैज्ञानिक कोरोनावायरस के वैक्सीन की खोज में दिन-रात एक किए हुए हैं। वहीं, चीन के वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि उन्होंने एक ऐसी दवा की खोज की है जिससे कोरोना वायरस का संक्रमण रोका जा सकता है।  दरअसल चीन की एक लैब का दावा है […]