गुड्डू बोले- सांवेर से सिलावट को हराएंगे, भाजपा ने दिया नोटिस

नगर संवाददाता | इंदौर

सांवेर विधानसभा सीट पर छिड़ी जंग

बीते विधानसभा चुनाव में कांग्रेस का हाथ छोड़कर भाजपा का दामन थमने वाले प्रेमचंद गुड्डू ने एक फिर बगावती सुर अख्तियार कर लिए हैं। वे सिंधिया और उनके समर्थकों के भाजपा में शामिल किए जाने से गुस्सा हैं। गुस्सा इस कदर हैं कि सिलावट को सांवेर से उपचुनाव में हराने तक का ऐलान कर चुके हैं। वे बोले- सिलावट ने सांवेर की जनता के साथ धोखा किया है, उपचुनाव में सिलावट भाजपा ले प्रत्याशी के बतौर मैदान में उतरेंगे तो मैं और मेरी टीम उन्हें हराने का काम करेगी।

इस बीच भाजपा ने गुड्डू के बगावती तेवर को गंभीरता से लेना शुरू कर दिया है। भाजपा जिलाध्यक्ष राजेश सोनकर ने बताया कि गुड्डू लगातार सोशल मीडिया और मीडिया से चर्चा में पार्टी नेता और मंत्री को लेकर बयानबाजी कर रहे हैं, इसलिए उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। 7 दिन में उन्हें प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा के समक्ष उपस्थित होकर अपना पक्ष रखने लिए कहा गया है। हालांकि गुड्डू ने फिलहाल ऐसे किसी नोटिस के मिलने से इनकार किया है।

प्रेमचंद गुड्डू और उनके पुत्र अजीत बौरासी बीते विधानसभा चुनाव में टिकट आवंटन में ज्योतिरादित्य सिंधिया के दखल से दु:खी होकर भाजपा में शामिल हुए थे। अजीत आलोट से कांग्रेस का टिकट चाह रहे थे, लेकिन जब दरकिनार किया जाने लगा तो वे पिता के साथ भाजपा में आ गए। भाजपा ने अजीत को आलोट के बजाय घट्टिया से चुनाव लड़वाया लेकिन वे जीत नहीं पाए। लोकसभा चुनाव में गुड्डू को भी उज्जैन से टिकट नहीं मिला। यानी भाजपा के आने के बाद भी पिता-पुत्र हाशिये पर ही रहे। सिंधिया के भाजपा में शामिल होने के बाद गुड्डू अपने पुराने तेवर में आ गए। गुड्डू की राजनीति में सिंधिया का विरोध स्थाई रहा है। जब-जब उन्हें मौका मिला उन्होंने पार्टी में रहने के बाद भी सिंधिया के खिलाफ मोर्चा खोलने में झिझक नहीं दिखाई। वे अभी भी सिंधिया घराने का इतिहास बताकर उनपर हल्ला बोलने में जुटे हुए हैं। उनका कहना है कि सिंधिया समर्थक सिलावट को भाजपा ने सांवेर से चुनाव लड़वाया तो वे इसका प्रतिकार ही नहीं करेंगे बल्कि उन्हें हराने में कोई कसर बाकी नहीं रखेंगे।

गुड्डू ने कांग्रेस में जाने की अटकलों पर स्पष्ट बात नहीं कही। बोले- अभी भाजपा में ही हूं। अभी तो कार्यकर्ताओं से सांवेर चुनाव की रणनीति पर चर्चा चल रही है। आने वाले समय में जो भी बातें होंगी वह बताऊंगा। पार्टी का नोटिस मिला तो उसपर भी खुलकर चर्चा करूंगा।

Next Post

दूसरे साल भी इंदौर को 5 स्टार रैंकिंग 7 स्टार रैंकिंग नहीं कर पाया हासिल

Wed May 20 , 2020
नगर संवाददाता | इंदौर 5 स्टार रैंकिंग मिली इंदौर को… इंदौर ने दूसरे साल भी अपनी रेटिंग रखी बरकरार, लेकिन कचरा संग्रहण शुल्क, जलाशय स्वच्छता और बारिश में सिटी ब्यूटीफिकेशन में चूक के कारण नहीं मिल सकी 7 स्टार रेटिंग केंद्रीय शहरी विकास और आवासन मंत्रालय द्वारा मंगलवार को देश […]