बीजेपी के दो सांसद ताइवान की राष्ट्रपति के शपथ ग्रहण में हुए शामिल, अब उठ रहे हैं सवाल

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। 

हाल ही में त्साई इंग-वेन ने दूसरी बार ताइवान के राष्ट्रपति के पद के रूप में शपथ ली। इस शपथ ग्रहण में भाजपा के दो सांसदों ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हिस्सा लिया और वेन को बधाई दी। दुनियाभर के 41 देशों के कुल 42 हस्तियों ने इस कार्यक्रम में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हिस्सा लिया।

न्यूज वेबसाइट द प्रिंट के मुताबिक, इस शपथ ग्रहण कार्यक्रम में बीजेपी के दो सांसद, मीनाक्षी लेखी और राहुल कस्वान के इस कार्यक्रम में हिस्सा लेने के बाद एक सवाल उठने लगा है कि क्या अब मोदी ने ताइवान के लिए अपनी रणनीति बदल दी है क्या?

ताइवान को अभी भी नहीं मिला है स्वतंत्र राष्ट्र का दर्जा

हस्तियों ने इस कार्यक्रम में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ही शिरकत की क्योंकि कोविड-19 के प्रकोप के कारण ताइवान में विदेशियों के आगमन पर पाबंदी लगी हुई है। वहीं चीन ताइवान को स्वतंत्र राष्ट्र का दर्जा नहीं देता है और उसे अपना ही एक हिस्सा बताता है।

इस बार के शपथ ग्रहण समारोह में लेखी और कस्वान के अलावा भारत-ताइपे असोसिएशन के कार्यकारी महानिदेशक सोहंग सेन ने भी हिस्सा लिया। ताइपे में उन्होंने भारत का प्रतिनिधित्व किया। संयुक्त राष्ट्र के 194 सदस्य देशों में से 179 देशों का ताइवान के साथ राजनयिक संबंध हैं, लेकिन भारत अब तक इससे बचते आ रहा है। लेकिन अब लगता है कि भारत सरकार को इससे कोई आपत्ति नहीं है।

पहले भी हुआ था शपथ ग्रहण लेकिन भारत इसका हिस्सा नहीं था

इससे पहले 2016 में मोदी सरकार ने न्योता मिलने के बावजूद अपने किसी सांसद को सरकार ने त्साई इंग-वेन के शपथ ग्रहण समारोह में नहीं भेजा था। लेकिन इस बार मीनाक्षी लेखी और राहुल कस्वान की उपस्थिति के बाद यह सवाल उठ रहा है कि क्या मोदी सरकार ताइवान के प्रति अपनी नीति बदल रही है।

लेखी और कस्वान ने अपने साझे संदेश में कहा कि भारत और ताइवान लोकतांत्रिक मूल्यों में विश्वास करते हैं। संदेश में कहा गया, “भारत और ताइवान, दोनों लोकतांत्रिक देश हैं और स्वतंत्रता एवं मानवाधिकारों के सम्मान के साझे मूल्यों से बंधे हैं। पिछले कुछ वर्षों में भारत और ताइवान ने द्विपक्षीय रिश्तों में व्यापार, निवेश और लोगों के आपसी आदान-प्रदान जैसे क्षेत्रों में काफी विस्तार दिया है।”

मीनाक्षी लेखी ने अलग से भी एक संदेश जारी किया, जिसमें उन्होंने त्साई को बधाई देते हुए उनकी बेहतरीन कामयाबी की कामना की गई। लेखी ने भी अपने संदेश में भारत-ताइवान के व्यापक रिश्तों की प्रगाढ़ता का जिक्र किया। 

Next Post

मैदान में भी ‘दूरी’ जरूरी, विकेट लेकर ताली भी नहीं मारना !

Sat May 23 , 2020
नई दिल्ली इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) ने कोरोना वायरस के बाद क्रिकेट को दोबारा शुरू करने के लिए पूरी गाइडलाइन जारी कर दी है। इस गाइडलाइन में घरेलू क्रिकेटरों से लेकर इंटरनेशनल क्रिकेट खिलाड़ियों की ट्रेनिंग, खेल, ट्रैवल और वायरस से सुरक्षा संबंधी दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं। आईसीसी ने […]