दलालों का अड्डा बन गया था सचिवालय : शिवराज

नगर संवाददाता | इंदौर

इंदौर में पूर्व सरकार पर पहली बार आक्रामक हुए मुख्यमंत्री

आम तौर पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह विरोधी दल के नेताओं के लिए भी संयमित भाषा बोलते हैं। लेकिन सोमवार को शिवराज आक्रामक तो हुए ही, साथ ही यहां तक कह डाला कि कमलनाथ सरकार के वक्त सचिवालय दलालों का अड्डा बन गया था। इंदौर में मीडिया से चर्चा के दौरान वे यही नहीं रुके। यह भी कहा कि कमलनाथ को अपने मंत्रियों और कार्यकर्ताओं से मिलने के लिए वक्त नहीं था। विधायक मिलने जाते तो उन्हें चलो-चलो कहकर बाहर कर दिया जाता। सचिवालय में तो कमीशन पर काम करवाने वाले दलाल घेरे रहते थे। दलाल कमीशन पर हर काम कराने की ताकत रखते थे। शिवराज ने कहा कि कांग्रेस विचित्र पार्टी है, सिंधिया जब चेता रहे थे कि जनता से किए वादे पूरे न होने पर सड़क पर उतर जाएंगे तो उनकी उपेक्षा के साथ यह तक कह दिया कि उतर जाओ सड़क पर।

चौहान ने कहा कि सिंधिया जैसे लोकप्रिय नेता को ऐसे ट्रीट किया जाता है क्या? उन्होंने कोई गलती नहीं की, कांग्रेस से नाता तोड़कर मप्र को तबाह होने से बचा लिया है। कमलनाथ को तो दिग्विजय सिंह से पूछना चाहिए कि उन्होंने धोखे में क्यों रखा, जो अंत तक यह कहते रहे कि कोई कांग्रेस नहीं छोड़ेगा। मैं कांग्रेस के मित्रों को धन्यवाद देता हूं जिन्होंने प्रदेश की जनता से वादाखिलाफी करने वाली कमलनाथ सरकार को सबक सिखाया।

हर दिन वीसी से इंदौर की समीक्षा : मीडिया के सवालों के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा, इंदौर मेरा शहर है। अधिकारियों के साथ हर दिन वीसी से समीक्षा करता हूं। इसी से अगले महीनों में स्थिति नियंत्रित रहे, इसकी कार्ययोजना भी बनाई है।

सीएम ने सुनी नर्सों की समस्याएं : कलेक्टर कार्यालय में बैठक के बाद सीएम शिवराज सिंह चौहान बाहर निकले तो नर्सों ने उन्हें वेतन भत्ता नहीं मिलने की समस्या बताई। इस पर सीएम ने उन्हें गौर से सुना और भरोसा दिलाया।

छोटे उद्योगों को प्रेरित करेंगे

शिवराज ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी जी ने लोकल को वोकल और आत्म निर्भर भारत की बात कही है। मप्र में छोटे उद्योगों को प्रेरित करने की दिशा में काम शुरू कर रहे हैं। उद्योगों को जमीन मिल जाए, इसके लिए किसानों से समझौता कर लैंड पुलिंग की नीति बना रहे हैं। छोटे दुकानदारों (स्ट्रीट वेडर) को मोदी जी ने 10 हजार के लोन की घोषणा की है। इसमें 7 फीसदी ब्याज तो केंद्र चुकाएगी ही, 3 फीसदी राज्य सरकार जमा कराएगी। गांवों के छोटे दुकानदार-हाट बाजार के लिए ऐसा ही लोन राज्य सरकार देगी।

तो स्कूलों पर करेंगे कार्रवाई

सीएम शिवराज सिंह ने कहा कि स्कूल और कॉलेज संचालकों को निर्देश दिए गए हैं कि सिर्फ ट्यूशन फीस ही ले सकते हैं। इसके अलावा अन्य कोई फीस लेने के लिए दबाव बना कर पेरेंट्स को परेशान करने की शिकायत पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। बिजली बिल में 100 रु. वालों से 50 रु, 400 तक के बिल पर 100, इससे अधिक बिल पर आधी राशि जमा कराएं, बाकी बढ़ी आधी राशि की जांच होगी। व्यावसायिक दुकानदार अप्रैल के बिल मुताबिक राशि जमा कराएं, इंडस्ट्री के बारे में भी यही फैसला लिया है।

शिवराज जी किस मुंह से कोस रहे हैं : कांग्रेस

मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने आरोपों पर पलटवार करते हुए कहा कि जिस सरकार ने कोरोना महामारी के भीषण संकट काल में भी वल्लभ भवन से जमकर ट्रांसफर उद्योग चलाया, इस महामारी में भी फ़र्ज़ीवाड़ों को अंजाम दिया, वह आज किस मुंह से कांग्रेस सरकार को कोस रही है? जिस ज्योतिरादित्य सिंधिया को शिवराज जी आज अपना बता रहे हैं, उन्होंने ही शिवराज जी को किसानों का हत्यारा बताया था और भोपाल में अनशन पर बैठ गए थे।

Next Post

पीएम के नए विमान पर मिसाइल बेअसर, सितंबर से करेंगे सफर

Tue Jun 9 , 2020
नई दिल्ली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सितंबर से मिसाइल रक्षा कवच से लैस बोइंग-777 विमान से यात्रा करेंगे। इस विमान की सुरक्षा प्रणाली अमेरिकी राष्ट्रपति के विमान के स्तर की है। दो विशेष रूप से उन्नत बोइंग-777 विमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘एयर इंडिया वन’ बेड़े में […]