फेसबुक ने अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप की हटा दी पोस्ट

वॉशिंगटन

ट्विटर ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा ट्वीट किए गए एक वीडियो को एक बार फिर ‘मैनिपुलेटेड मीडिया’ मार्क करते हुए डॉक्टर्ड बता दिया है। इससे पहले भी ट्विटर ने ट्रंप के दो ट्वीट्स को ‘गलत जानकारी’ करार देते हुए मार्क कर दिया था। उधर फेसबुक ने भी ट्रंप और अमेरिका के उप राष्ट्रपति माइक पेंस के उन प्रचार विज्ञापनों को हटा दिया है, जिनमें लाल रंग के उल्टे त्रिकोण को इस्तेमाल किया गया था।

फेसबुक ने इसे जर्मनी के नाजियों से संबंधित निशान बताया है। डोनाल्ड ट्रंप ने गुरूवार को एक वीडियो ट्वीट किया। उन्होंने इसके साथ लिखा- ‘डरा हुआ बच्चा एक दूसरे नस्लवादी बच्चे से डरकर भाग रहा है।’ इस ट्वीट के जरिए उन्होंने अमेरिका के कई राज्यों में जारी ‘ब्लैक लाइव्स मैटर’ आंदोलन पर निशाना साधने की कोशिश की थी। ट्विटर के मुताबिक ये वीडियो साल 2019 में पहली बार सोशल मीडिया पर पोस्ट हुई थी जिसमें एक श्वेत और एक अश्वेत बच्चा एक दूसरे को गले से लगाने के लिए दौड़ रहे हैं। सीएनएन की वेबसाइट पर भी ये वीडियो मौजूद है जहां इसे ‘असल जिंदगी में बेस्ट फ्रेंड ऐसे होते हैं’ शीर्षक से प्रकाशित किया गया है। इस वीडियो में कई अंश बाहर से डाल दिए गए हैं और ऐसा नज़र आ रहा है कि अश्वेत बच्चा श्वेत बच्चे से डरकर भाग रहा है। इस वीडियो में लिखा भी आता है कि श्वेत बच्चा ट्रंप का वोटर है। फेसबुक ने अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को करारा झटका दिया है। फेसबुक ने ट्रंप और अमेरिका के उप राष्ट्रपति माइक पेंस के उन प्रचार विज्ञापनों को हटा दिया है, जिनमें लाल रंग के उल्टे त्रिकोण को इस्तेमाल किया गया था। इस संकेत का इस्तेमाल नाजियों ने राजनीतिक कैदियों, साम्यवादियों और हिरासत केंद्रों में बंद अन्य लोगों के लिए किया था। कंपनी की सुरक्षा नीति प्रमुख नैथेनियल ग्लीचर ने गुरुवार को प्रतिनिधि सभा की खुफिया समिति के समक्ष विज्ञापन हटाए जाने की पुष्टि की। उन्होंीने कहा कि फेसबुक घृणा फैलानी वाली विचारधारा से जुड़े किसी भी संकेत को दिखाने की अनुमति तब तक नहीं देता, ‘जब तक कि वह किसी संदर्भ के साथ या निंदा करने के लिए इस्तेमाल न किया जाए।’

अमेरिका में प्रतिदिन होने वाली मौत में आई कमी

जॉन्स हॉपकिन्स विश्वविद्यालय के आकंड़ों के ‘एपी द्वारा किए आकलन के अनुसार देशभर में कोविड-19 से प्रतिदिन होने वाली मौत की संख्या गिरकर करीब 680 रह गई है जो कि दो सप्ताह पहले 960 थी। ऐसा माना जा रहा है कि संक्रमण को रोकने और लोगों को बचाने के लिए अस्पतालों एवं नर्सिंग होम में प्रभावी उपचार और बेहतर प्रयासों सहित कई कारणों से यह गिरावट आई है। आकलन में पाया गया कि प्रतिदिन सामने आने वाले नए मामले की संख्या बढ़ी है, जो दो सप्ताह पहले 21,400 थी और अब 23,200 हो गई है।

Next Post

चीनी ऐप्स के इस्तेमाल को बंद करने को लेकर सरकार ने क्या कहा है

Sat Jun 20 , 2020
नेहा श्रीवास्तव, इंदौर।  भारत और चीन के बीच सीमा पर विवाद जारी है। दोनों देशों के बीच तनाव अपने चरम स्तर पर है। ऐसे वक्त में देशभर में चीनी ऐप को हटाने की मुहिम शुरू हो गई है। चीनी सैनिकों द्वारा धोखे से भारतीय जवानों पर हमला किए जाने और […]