हमारे मुल्क के लोग ही हज यात्रा कर पाएंगे : सऊदी सरकार

अबू धाबी

पिछले साल 25 लाख से ज्यादा लोग हज यात्रा पर मक्का और मदीना पहुंचे थे। इस साल 28 जुलाई से 2 अगस्त तक हज यात्रा होनी थी। इसके लिए भारत का कोटा 2 लाख है। भारत के 2.13 लाख जायरीनों का पूरा पैसा उनके अकाउंट में ट्रांसफर होगा।

सऊदी अरब ने कहा कि इस साल हज को रदद नहीं किया जाएगा लेकिन कोरोना वायरस को देखते हुए सीमित संख्या में ही लोगों को इसमें शामिल होने की अनुमति दी जाएगी। सऊदी अरब सल्तनत ने मंगलवार को कहा कि वह विभिन्न देशों के केवल उन्हीं लोगों को हज में शामिल होने की अनुमति देगा जो पहले से ही मुल्को में रह रहे हैं। हालांकि सरकार ने यह नहीं बताया था कि कितने लोगों को शामिल होने दिया जाएगा।

वार्षिक हज यात्रा इस साल जुलाई के अंत में शुरू होगी। कोरोना वायरस महामारी के बीच सऊदी अरब में इस साल हज यात्रा होगी, लेकिन नियम में बदलाव किया गया है। इस बार केवल सऊदी में रहने वाले लोग ही यात्रा कर सकेंगे। विदेशियों को इसकी इजाजत नहीं दी जाएगी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस बार सीमित संख्या में ही लोगों को हज करने की अनुमति मिलेगी। सऊदी सरकार के इस फैसले के बाद भारत के 2.13 लाख जायरीनों का पूरा पैसा उनके अकाउंट में रिफंड कर दिया जाएगा केंद्रीय अल्पसंख्यक मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने यह जानकारी दी।

इस साल हज यात्रा 28 जुलाई से 2 अगस्त तक होनी थी। आधिकारिक बयान में कहा गया है कि लोगों में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए तमाम सुरक्षात्मक उपाय भी अपनाए जाएंगे। हज के लिए सऊदी अरब के मक्का में आमतौर पर दुनियाभर से 20 लाख के करीब मुस्लिम जुटते हैं लेकिन कोरोना महामारी के चलते इस बार श्रद्धालुओं की संख्या बहुत कम रहेगी। बता दें कि सऊदी अरब ने अपनी स्थापना के बाद से लगभग 90 वर्षों में कभी भी हज को रद नहीं किया है। इस्लाम धर्म के पांच बुनियादी स्तंभ हैं जिसमें हज भी शामिल है। हर मुस्लिम अपने जीवन में कम से एक बार अवश्य हज करने की इच्छा रखता है।

सऊदी में 1.61 लाख संक्रमित

रिपोर्टों के मुताबिक, हज यात्रा और उमरा से सऊदी अरब हर साल करीब 1200 करोड़ डॉलर की कमाई करता है। सऊदी अरब में अब तक संक्रमण के 1.61 लाख मामले सामने आ चुके हैं। इनमें 1.05 लाख से ज्यादा ठीक हो चुके हैं। वहीं, 1307 लोगों की मौत हो चुकी है। पिछले हफ्ते ही यहां लॉकडाउन प्रतिबंधों में ढील दी गई है।

Next Post

एक 95 साल की बुजुर्ग महिला जो कोरोना से तो बच गईं लेकिन परिवार से हार गयी

Wed Jun 24 , 2020
नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद स्थित गांधीनगर अस्पताल  में 93 साल की एक महिला ने कोविड-19 को तो मात दे दी, लेकिन परिवारवाले उन्हें घर ले जाने को तैयार नहीं हैं। और अब तो अस्पताल वाले भी उन पर घर जाने का प्रेशर बना रहे हैं। दरअसल, अस्पताल […]