सचिन पायलट को कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष पद सहित और दो मंत्रियों को बर्खास्त किया गया

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर।

राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच जारी खींचतान के बीच पायलट को उपमुख्यमंत्री पद और कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष पद से हटा दिया गया है। साथ ही दो मंत्रियों को बर्खास्त किया गया है।

भाकर ने पायलट को अपना समर्थन दिया था

 

इस सियासी खींचतान ने अब एक नया मोड़ ले लिया है। इसकी घोषणा कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने की है। रणदीप सुरजेवाला ने बताया कि गोविंद सिंह डोटासरा को पायलट की जगह पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नियुक्त किया गया है।

साथ ही दो मंत्रियों को बर्खास्त किया गया है। इसके अलावा भारतीय युवा कांग्रेस ने प्रदेश युवा कांग्रेस के अध्यक्ष मुकेश भाकर को भी पद से हटा दिया है। भाकर ने पायलट को अपना समर्थन दिया था।

राजस्थान में सियासी संकट के बीच जयपुर के फेयरमोंट होटल में आयोजित कांग्रेस विधायक दल की बैठक खत्म हो गई है। बैठक में शामिल नहीं हुए सचिन पायलट को उप-मुख्यमंत्री पद से और प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पद से हटा दिया गया है।

102 विधायकों ने पायलट को पार्टी से बाहर करने को कहा

 

इससे पहले बैठक में मौजूद 102 विधायकों ने कांग्रेस विधायक दल की में सर्वसम्मति से सचिन पायलट को पार्टी से बाहर कर देने की मांग की थी। इस बैठक में शामिल विधायकों ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी के नेतृत्व में आस्था प्रकट की और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के प्रति समर्थन जताया।

वहीं, दूसरी तरफ सोमवार को पायलट कैंप की तरफ से एक वीडियो जारी किया गया था, जिसमें डिप्टी सीएम अपने विधायकों के साथ रणनीति बनाते दिख रहे हैं। हालांकि, कांग्रेस नेताओं का दावा है कि, पायलट को मना लिया जाएगा, जिस पर फिलहाल मुहर लगती नहीं दिख रही है। अब देखना ये है कि राजस्थान कांग्रेस में चल रहे विवाद का अंत किस तरह होता है।

पार्टी फिलहाल फ्लोर टेस्ट की मांग नहीं कर रही है

 

राजस्थान बीजेपी अध्यक्ष सतीश पूनिया ने मंगलवार को कहा कि पार्टी फिलहाल विधानसभा में फ्लोर टेस्ट की मांग नहीं कर रही है। फ्लोर टेस्ट के बारे में पूछे जाने पर पूनिया ने कहा, “वर्तमान में हम अभी कुछ भी नहीं मांग रहे हैं। हमारी प्राथमिकता यह थी कि यह एक भ्रष्ट सरकार है और इसने कोरोना वायरस संकट में कुप्रबंधन किया है। यह एक कमजोर सरकार बन गई है। पहली बात यह है कि इस सरकार को राज्य के लोगों के हित के बारे में सोचना चाहिए।”

सूत्रों के मुताबिक फिलहाल युवा कांग्रेस ने कांग्रेस के आलाकमान के साथ बातचीत के बाद विधायक भाकर के खिलाफ कार्रवाई करने का मन बनाया है और जल्द ही इसकी घोषणा की जा सकती है। भाकर खुलकर पायलट के साथ खड़े हैं और सोमवार एवं मंगलवार को जयपुर में हुई कांग्रेस विधायक दल की बैठकों में शामिल नहीं हुए थे।

Next Post

सुशांत के लिए रिया ने अपने लव नोट में लिखा, 'तुमने मुझे प्यार और उसकी ताकत पर विश्वास करना सिखाया'

Tue Jul 14 , 2020
नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। सुशांत सिंह राजपूत को इस दुनिया से अलविदा कहे हुए आज एक महीना पूरा हो गया है। लेकिन अभी तक उनके फैंस और परिवार के लोगों ने इस सुसाइड को एक्सेप्ट नहीं कर पाए हैं। यहां तक कि उनकी प्रेमिका रिया भी इससे उबर नहीं पा रही हैं। […]