ऐश्वर्या श्योराण का नेटवर्किंग और एक्टिंग की दुनिया से इतर यूपीएससी तक का सफ़र वाक़ई दिलचस्प है

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर।

जहां एक ओर फैशन, मॉडलिंग और एक्टिंग की दुनिया के लोगों का पढ़ाई-लिखाई व किताबों से दूर का रिश्ता माना जाता है, वहीं टॉप मॉडल बनने के बाद ऐश्वर्या श्‍योराण ने यूपीएससी रिजल्ट में 93 रैंक हासिल की है।

मॉडलिंग की दुनिया में नाम कमा चुकीं ऐश्वर्या श्‍योराण ने हाल ही में आए यूपीएससी रिजल्ट में 93 रैंक हासिल करके एक नया उदाहरण पेश किया है।

श्‍योराण के करियर की सफलता का यह दूसरा मौका है

यूनियन पब्लिक सर्विस कमिशन ने मंगलवार को सिविल सर्विस परीक्षा का परिणाम घोषित कर दिया। नतीजे सामने आने के बाद इंटरनेट पर रैंक होल्डर उम्मीदवारों की सक्सेस स्टोरीज आ रही हैं।

इन्हीं में से एक नाम है ऐश्वर्या श्‍योराण का। उन्होंने यूपीएससी परीक्षा में पहली बार में ही पूरे भारत में 93वां स्थान प्राप्त किया है। वहीं ऐश्‍वर्या श्‍योराण के करियर की सफलता का यह दूसरा मौका है।

डीयू के श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स (एसआरसीसी) से इकोनॉमिक्स ऑनर्स की पढ़ाई वर्ष कर चुकी ऐश्वर्या श्योराण अपना सबसे बड़ा आदर्श पीएम नरेंद्र मोदी को मानती हैं। पीएम मोदी का सामाजिक जीवन उनके लिए सबसे बड़ी प्रेरणा है।

मशहूर फैशन डिजाइनर विडप्पा के साथ काम किया है

ऐश्वर्या श्योराण के मुताबिक, वर्ष 2017 में स्नातक की पढ़ाई पूरी करने के बाद जब पिता की पोस्टिंग मुंबई में हो गई थी। तब उन्होंने मुंबई में मॉडलिंग शुरू की थी। उन्होंने मशहूर फैशन डिजाइनर मनीष मल्होत्रा, दक्षिणी के मशहूर फैशन डिजाइनर विशाल विडप्पा के साथ काम किया है।

साथ ही एक बड़े फैशन वीक में भी हिस्सा लिया है। 2018 में उनके मन में खयाल आया था कि वह आइआइएम इंदौर के मुंबई कैंपस में दाखिला लें। उनके मन में हमेशा से ही सिविल सेवक बनने का इच्छा थी।

अपने ही राज्य राजस्थान में कार्यरत होना चाहती हूं

ऐश्वर्या अपना एक्सपीरियंस साझा करते हुए बताती हैं, “मेरा मानना है कि जीवन में जो भी आप हासिल करना चाहते हैं वह बिना परिश्रम के नहीं मिल जाता है। आपको उसके लिए मेहनत करनी होती है। उनकी मां ने मिस वर्ल्ड 1994 एवं बॉलीवुड अभिनेत्री ऐश्वर्या राय के कारण बेटी का नाम ऐश्वर्या रखा था।”

उन्होंने आगे कहा है कि मैं महिला सशक्तिकरण और वंचित वर्ग के लोगों के लिए काम करना चाहती हूँ। मूल रूप से राजस्थान की रहने वाली हूं तो अपने ही राज्य राजस्थान में ही कार्यरत होना चाहती हूं।

पिता करिमनगर में कमांडिंग ऑफिसर हैं

23 वर्षीय ऐश्वर्या मूलरूप से राजस्थान के चूरू जिले के राजगढ़ उपखंड के गांव चुबकिया ताल गांव की रहने वाली हैं। ऐश्वर्या के चयन से उनके गांव में खुशी की लहर है।

ऐश्वर्या श्योराण ने चाणक्यपुरी के संस्कृति स्कूल से फिजिक्स, कैमिस्ट्री, मैथ्स और इकोनाॅमिक्स में 97.5 फीसद अंक प्राप्त किए थे। उनके पिता कर्नल अजय कुमार श्योराण, एनसीसी तेलंगाना बटालियन, करिमनगर में कमांडिंग ऑफिसर हैं। उनकी माता सुमन श्योराण ग्रहणी हैं। उनके भाई अमन श्योराण मुंबई अंडर-23 क्रिकेट टीम के सदस्य हैं।

Next Post

केरल में लगभग 80 से ज़्यादा चाय बागान के मजदूर भूस्खलन के भयानक हादसे में दब गए हैं

Fri Aug 7 , 2020
नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। केरल के मुन्नार में लगातार हो रही बारिश के चलते एक बड़ा भूस्खलन हुआ है। इस हादसे में अब तक 5 लोगों की मौत हो गई है। वहीं चाय बागानों में काम करने वाले कई मजदूर फंस गए हैं। इस हादसे में कई श्रमिक लापता है। मौके […]