पैगंबर पर किये गए पोस्ट ने आज बंगलुरू में 3 पुलिस वालों की जान ले चुका है वहीं 60 से ज़्यादा घायल हैं

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर।

पैगंबर पर किये गए पोस्ट ने आज बंगलुरू में 3 पुलिस वालों की जान ले चुका है वहीं 60 से ज़्यादा घायल हैं

कर्नाटक की राजधानी बंगलूरू में मंगलवार रात कांग्रेस विधायक श्रीनिवास मूर्ति के भतीजे द्वारा कथित रूप से भड़काऊ सोशल मीडिया पोस्ट डालने के बाद हिंसा भड़क गई।

हालात इस कदर बिगड़ गए कि पुलिस को इसे काबू करने के लिए फायरिंग करने पर मजबूर होना पड़ा है। अब इस पोस्ट में ऐसा क्या लिखा था कि बात इतनी ज्यादा आगे बढ़ गयी।

पैगंबर को लेकर सोशल मीडिया पर पोस्ट किया था

कोरोना संकट काल में जब हर किसी को भीड़ में जाने से बचने के लिए कहा जा रहा है, ऐसे वक्त में कर्नाटक के बेंगलुरु में बवाल हो गया है।

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक कांग्रेस विधायक श्रीनिवास मूर्ति के भतीजे ने पैगंबर को लेकर सोशल मीडिया पर एक पोस्ट किया था, जिसके बाद अल्पसंख्यक समुदाय का गुस्सा फूट पड़ा और उन्होंने विधायक के घर तोड़फोड़ की।

इस मामले पर कर्नाटक के गृहमंत्री ने कहा, “मामले की जांच हो रही है, लेकिन तोड़फोड़ से किसी समस्या का समाधान नहीं हो सकता। सुरक्षा के मद्देनजर इलाके में अतिरिक्त बलों को तैनात कर दिया गया है और उपद्रवियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।”

पत्रकारों, पुलिस और जनता पर हमला अस्वीकार्य है

घटना के बाद पूरे बेंगलुरू शहर में धारा 144 लगा दी गई है। इसके साथ ही हिंसा में प्रभाविक दो थाना क्षेत्रों डीजे हल्ली और केजी हल्ली में पूरी तरह कर्फ्यू लगा दिया गया है। कर्नाटक के गृहमंत्री ने पूरे राज्य में अलर्ट जारी कर दिया है और मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा खुद मामले पर नजर बनाए हुए हैं।

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने राजधानी बंगलूरू में हुई हिंसा को लेकर कड़ी कार्रवाई का भरोसा दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा, “अपराधियों के खिलाफ निर्देश दिए गए हैं और सरकार ने स्थिति पर अंकुश लगाने के लिए सभी संभव कदम उठाए हैं। पत्रकारों, पुलिस और जनता पर हमला अस्वीकार्य है। सरकार ऐसे उकसावों और अफवाहों को बर्दाश्त नहीं करेगी। अपराधियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई निश्चित है।”

अभी तक हिंसा में 3 लोगों की मौत हो गई है और 60 पुलिस कर्मी घायल हुए हैं। हिंसा के आरोप में 110 लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है। फेसबुक पोस्ट के लेकर भड़की हिंसा को काबू में करने के लिए पुलिस ने भीड़ पर लाठीचार्ज किया, आंसू गैस के गोले छोड़ और फायरिंग की।

पुलिस ने आपसी तरीके से मामला सुलझाने के लिए कहा तब हिंसा भड़की

वहीं सोशल मीडिया पर कथित आपत्तिजनक पोस्ट करनेवाले विधायक श्रीनिवास मूर्ति के रिश्तेदार को भी अरेस्ट कर लिया गया है। पोस्ट को लेकर सद्भावना यूथ सोशल वेलफेयर एसोसिएशन के सदस्य और अन्य मस्जिदों से जुड़े लोगों ने बेंगलुरू के डीजे हल्ली पुलिस स्टेशन में मूर्ति के रिश्तेदार कस खिलाफ शिकायत भी दर्ज कराई थी। लेकिन, पुलिस ने आपसी तरीके से मामला सुलझाने के लिए कह दिया।

इसी के बाद कई लोगों की भीड़ पुलिस स्टेशन के बाहर इकट्ठा हो गई और नारेबाजी करने लगी। देखते-देखते ही बवाल हो गया और पत्थरबाजी शुरू हो गई। इसके बाद बेकाबू भीड़ ने पुलिस स्टेशन, विधायक को घर को अपना निशाना बनाया। वहां तोड़फोड़ की, आगजनी की और पुलिस के दर्जनों वाहन को भी फूंक दिया।

Next Post

कोरोना के बारे में गलत जानकारी से गई 800 लोगों की जान

Thu Aug 13 , 2020
वाशिंगटन कोरोना वायरस को लेकर एक चौंकाने वाला शोध हुआ है। इसके मुताबिक इससे जुड़ी भ्रामक जानकारी और अफवाहों के कारण भी दुनिया भर में सैकड़ों लोगों की मौत हो चुकी है वहीं हजारों लोग पीड़ित हुए हैं। शोध के मुताबिक “इंफोडेमिक” ने कोविड-19 से जुड़ी पीड़ा को सोशल मीडिया […]