धोनी के फैन पाकिस्तान के बशीर चाचा ने भी की संन्यास की घोषणा

नई दिल्ली

भारत-पाकिस्तान का मैच देखने नहीं जाएंगे स्टेडियम

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने 74वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा कर सभी फैन्स को चौका दिया। धोनी अब केवल आईपीएल के दौरान ही खेलते हुए नजर आएंगे। धोनी के साथ-साथ अब पाकिस्तान में जन्में उनके सबसे बड़े फैन मोहम्मद बशीर बोजाई उर्फ बशीर चाचा उर्फ चाचा शिकागो ने भी संन्यास की घोषणा कर दी है।

कराची में जन्मे मोहम्मद बशीर बोजाई ने अब भारत-पाकिस्तान के बीच होने वाले मुकाबले के लिए नहीं जाने का फैसला किया है। चाचा शिकागो के नाम से मशहूर बशीर के लिए दुनिया भर में इन चिर प्रतिद्वंद्वी टीमों को खेलते हुए देखने का अब कोई मतलब नहीं है। बशीर इसकी जगह अब रांची में धोनी से मिलने की योजना बना रहे हैं। बशीर शिकागो में रेस्टोरेंट चलाते हैं। बशीर ने कहा, ‘‘धोनी ने संन्यास ले लिया है और मैंने भी। उसके नहीं खेलने के कारण मुझे नहीं लगता कि अब मैं क्रिकेट देखने के लिए दोबारा यात्रा करूंगा। मैं उससे प्यार करता हूं और बदले में उसने मुझे वापस प्यार दिया। सभी महान खिलाड़ियों को एक दिन संन्यास लेना होता है लेकिन उसके संन्यास ने मुझे दुखी कर दिया। वह शानदार विदाई का हकदार था लेकिन वह इससे कहीं बढ़कर है।’’

अगला लक्ष्य रांची जा कर धोनी से मिलना | अब वह स्टेडियम में मैच नहीं देखेंगे तो उनका अगला पड़ाव रांची है। ‘‘चीजें सामान्य (कोविड-19 महामारी के बाद) होने पर मैं रांची में उसके घर जाऊंगा। उसे भविष्य की शुभकामनाएं देने के लिए मैं कम से कम इतना तो कर सकता हूं। मैं राम बाबू (मोहाली का एक अन्य सुपर फैन) को भी आने को कहूंगा।’’

Next Post

महादेवी वर्मा ने क्यों कहा कि वो किसी पण्डित जसराज को नहीं जानती?

Tue Aug 18 , 2020
सुनीता बुद्धिराजा संगीत के लिए एक ‘प्यारा-सा दिल’ चाहिए। उस ‘प्यारे-से दिल’ के साथ पंडित जसराज का परिचय श्रीमती महादेवी वर्मा ने करवाया। कलकत्ते में एक न्यू एम्पायर थियेटर है। पुराना, ब्रिटिश ज़माने से उसमें एक कार्यक्रम हुआ। महादेवी जी आयी थीं। ‘हम गाकर उठे और उनसे मिलने गये, बहुत […]