चीन की खराब टेस्ट किट ने स्वीडन के हजारों स्वस्थ लोगों को बता दिया कोरोना पॉजिटिव

बीजिंग/ स्टॉकहोम

ड्रैगन की करतूत… स्वीडन की सरकार ने किया धोखाधड़ी का खुलासा, अब कोरोना से जुड़े सभी मामलों की जांच शुरू की

चीन की खराब कोरोना टेस्ट किट के चलते स्वीडन को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। स्वीडन की पब्लिक हेल्थ एजेंसी ने बुधवार को कहा कि जांच में सामने आया है की चायनीज टेस्ट किट की खराबी के चलते 3700 ऐसे लोगों को कोरोना पॉजिटिव मानकर इलाज शुरू कर दिया गया जो कि एकदम स्वस्थ थे। किट रिजल्ट के चलते ये सभी अस्पतालों में कोरोना संक्रमण के प्रति और एक्सपोज हो गए।

स्वीडन ने बताया कि पब्लिक हेल्थ एजेंसी के नियमित क्वालिटी चेक में ये बात सामने आई है की 3700 ऐसे लोगों का इलाज चल रहा रहा जो असल में कोरोना पॉजिटिव थे ही नहीं। डेली मेल की खबर के मुताबिक चीन ने मंगाई गई पीसीआर किट खराब थीं और हर किसी का रिजल्ट पॉजिटिव ही दे रहीं थीं। ये किट चीन की कंपनी बीजीआई जिनोमेक्स से मंगाई गयी थी जो की ज्यादातर देशों में कोरोना टेस्ट किट सप्लाई कर रही है। इन लोगों में लक्षण नहीं थे लेकिन पॉजिटिव रिजल्ट आने के बाद ए-सिम्पटोमेटिक मानकर इनका इलाज चल रहा था। इन किट के जरिये स्वीडन ने मार्च से लेकर अगस्त तक टेस्ट किये हैं और कोरोना मरीजों का आंकड़ा भी इससे मिले रिजल्ट के आधार पर ही है। हेल्थ एजेंसी ने अब सभी मामलों की जांच शुरू कर दी है।

हर बुखार, जुकाम वाले शख्स को बताया पॉजिटिव

स्वीडन ने बताया की ये टेस्ट किट कोरोना से मिलते-जुलते लक्षण वाले हर व्यक्ति को पॉजिटिव बता रहीं हैं। हर वह शख्स पॉजिटिव पाया गया जिसे बुखार या जुकाम था, जबकि इसकी वजह कुछ और भी हो सकती हैं। अब एजेंसी सभी संक्रमित व्यक्तियों से संपर्क साधने की कोशिश कर रही है जिससे सही स्थिति का पता लगाया जा सके।

 

 

Next Post

पंजाब के 23 विधायकों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव

Thu Aug 27 , 2020
चंडीगढ़ कल से शुरू होना है विस सत्र पंजाब में बढ़ता कोरोना वायरस का संक्रमण में अब विधायक और मंत्रियों को भी अपनी गिरफ्त में ले रहा है। मिली जानकारी अनुसार पंजाब विधानसभा के अब तक 23 सदस्यों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। गौरतलब है कि दो दिन बाद […]