उग्र किसानों पर पुलिस ने दर्ज की 22 एफआईआर, 250 से ज्यादा पुलिसकर्मी घायल

नई दिल्ली । गणतंत्र दिवस के अवसर पर लाल किले सहित अलग-अलग जगहों पर मचाये गए उत्पात को लेकर दिल्ली पुलिस की तरफ से अब तक 22 एफआईआर दर्ज की गई हैं। राजधानी दिल्ली में सुरक्षा के आज भी कड़े बंदोबस्त किए गए हैं। मध्य जिले के आईटीओ के आसपास ट्रैफिक में डायवर्सन होने के साथ लाल किला और जामा मस्जिद मेट्रो स्टेशन को बंद रखा गया है।

दिल्ली के अधिक्तर इलाकों में इंटरनेट सेवा करीब बंद है। किसानों द्वारा निकाली गई ट्रैक्टर रैली और मचाये गए उत्पात को लेकर दिल्ली पुलिस आज दोपहर 2.30 बजे प्रेस वार्ता करेगी। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, पांडव नगर, गाजीपुर, सीमापुरी, कोतवाली, उत्तम नगर, नजफगढ़ और बाबा हरीदास नगर थाने में उपद्रवी किसानों के खिलाफ विभिन्न धाराओं में एफआईआर दर्ज की गई है। इनमें सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाना, सरकारी काम में बाधा डालना और पुलिसकर्मियों पर जानलेवा हमले जैसी धाराएं जोड़ी गई हैं। किसानों द्वारा मंगलवार को दिल्ली के विभिन्न इलाकों में 88 बैरिकेड, चार क्रेन, 8 डीटीसी बस और 17 निजी वाहन तोड़े। वहीं द्वारका जिले से करीब 30 पुलिसकर्मी गंभीर रूप से घायल हुए हैं।

250 से ज्यादा पुलिसकर्मी हुए घायल
पुलिस के अनुसार इन घटनाओं में कुल 250 से ज्यादा पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। इनमें बाहरी जिले से 75, उत्तरी जिले में 41, पूर्व में 34, पश्चिम में 27, द्वारका में 32, बाहरी-उत्तरी जिले में 12, शाहदरा में पांच और दक्षिण जिले के चार पुलिस कर्मी हैं। इनमें से दो पुलिसकर्मियों की हालत गंभीर बनी हुई है। अधिक्तर पुलिसकर्मियों को अस्पताल से छुट्टी दी गई है। इसके अलावा उत्तरी जिला, उत्तर पश्चिम जिला और शाहदरा जिला में भी एफआईआर दर्ज की गई हैं। इनमें दंगे, लूट, पुलिस की पिस्तौल छीनने, पुलिस पर हमला, सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाना जैसी धाराएं लगाई गई हैं।

सुरक्षा के कड़े इंतजाम
मंगलवार को हुई घटना के बाद दिल्ली में पुलिस की तरफ से आईटीओ, लाल किला, जामा मस्जिद जैसे इलाकों में सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए हैं। जामा मस्जिद व लाल किला मेट्रो स्टेशन को बंद रखा गया है। लोकल पुलिस के अलावा अर्द्धसैनिक बलों की भी तैनाती की गई है। ट्रैफिक पुलिस ने गाजीपुर फूल मंडी से एनएच 9 और एनएच-24 को बंद कर दिया है। दिल्ली से गाजियाबाद जाने के लिए लोग कड़कड़ी मोड़, शाहादरा व डीएनडी का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके अलावा आईटीओ के आसपास में ट्रैफिक का डायवर्सन किया गया है।

शीशगंज गुरुद्वारा में ठहरे 100 आंदोलनकारी
पुलिस सूत्रों की माने तो मंगलवार रात को करीब 100 किसान लाल किले में ही रह गए थे। इनके पास वापस लौटने का कोई साधन नहीं था। ऐसे में पुलिस ने लाल किला खाली कराने के बाद उन्हें गुरुद्वारा शीशगंज में रात को ठहराया, ताकि वह बुधवार सुबह अपने गंतव्य स्थान तक जा सके।

Next Post

कुलगाम में सेना की रोड ओपनिंग पार्टी पर ग्रेनेड हमला, चार जवान घायल

Wed Jan 27 , 2021
कुलगाम । कुलगाम जिले के शमसीपोरा इलाके में बुधवार सुबह आतंकवादियों ने सेना की रोड ओपनिंग पार्टी को निशाना बनाकर ग्रेनेड हमला किया। इस हमले में सेना के चार जवान घायल हो गए हैं, जिन्हें प्राथमिक उपचार के बाद सैन्य अस्पताल में भर्ती कराया गया है। हमले के तुरंत बाद […]