पश्चिम बंगाल : ‘जय श्री राम’ नारा के खिलाफ विधानसभा में निंदा प्रस्ताव पारित

कोलकाता । पश्चिम बंगाल विधानसभा में आज नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती के दिन विक्टोरिया मेमोरियल में पीएम नरेंद्र मोदी की उपस्थिति में ‘जय श्रीराम’ के नारे के खिलाफ एक निंदा प्रस्ताव पारित किया है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की सदन में उपस्थिति में राज्य के संसदीय कार्य मंत्री पार्थ चटर्जी ने यह प्रस्ताव विधानसभा में रखा।

चटर्जी ने कहा कि नेताजी की जयंती के अवसर नेताजी को स्मरण करने की जगह कुछ विशेष लोगों को बुलाकर कार्यक्रम को राजनीतिक मंच बना दिया गया था और नेताजी का अपमान किया गया। इस कार्यक्रम में ममता बनर्जी को आमंत्रित कर उन्हें अपमानित किया गया। बंगाल की संस्कृति को कलंकित किया गया है। इस कार्य की जितनी निंदा की जाए कम है। इस बीच उप संसदीय मंत्री तापस राय के वक्तव्य को लेकर वाम और कांग्रेस के विधायकों ने विधानसभा की बेल में उतर कर प्रदर्शन किया। लेकिन विरोध के बाद में तापस राय के कथन को विधानसभा की कार्यवाही से हटा दिया गया।

Next Post

किसान और सरकारः अब आगे क्या ?

Thu Jan 28 , 2021
– डॉ. वेदप्रताप वैदिक 26 जनवरी की घटनाओं ने सिद्ध किया कि सरकार और किसान दोनों अपनी-अपनी कसौटी पर खरे नहीं उतर पाए लेकिन अब असली सवाल यह है कि आगे क्या किया जाए? किसान लोग 1 फरवरी को संसद पर प्रदर्शन नहीं कर पाएंगे, यह मैंने लाल किले का […]