आज है विजया एकादशी व्रत, करें ये उपाय, होगा सब मंगल

आज यानि 09 मार्च को है विजया एकादशी (Vijaya Ekadashi) व्रत का पावन व्रत इस व्रत में भगवान विष्‍णु की संपूर्ण विधि विधान से पूजा की जाती है । आपको बता दें कि हिंदू पंचांग के अनुसार, फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी, विजया एकादशी (Vijaya Ekadashi) कहलाती है। हिंदू धर्म शास्त्रों में विजया एकादशी (Vijaya Ekadashi) का बड़ा ही महत्‍व है । पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान राम (Lord ram) ने भी समस्त वानर सेना के साथ मिलकर विजया एकादशी व्रत (Vijaya Ekadashi) किया था। इस व्रत के फल स्वरुप उन्हें विशालकाय समुद्र को पार करने में मदद मिली थी और लंका पर विजय प्राप्ति हुई थी। कहा जाता है कि भगवान श्री कृष्ण ने भी धर्मराज युधिष्ठिर को विजया एकादशी की महिमा से अवगत करवाया था।

करें ये उपाय

विजया एकादशी (Vijaya Ekadashi) पर गाय के दूध में केसर मिलाकर विष्णु प्रतिमा (Vishnu statue) का अभिषेक करें। ये उपाय करते समय विष्णु सहस्त्रनाम (Vishnu Sahasranama) का पाठ भी करें। इस उपाय से आपकी हर मनोकामना पूरी हो सकती है।

दीपक और अगरबत्ती जलाएं और खजूर और बदाम राम परिवार को चढ़ाएं। यह सब करने के बाद आपको ॐ सिया पतिये राम रामाय नमः मंत्र का जाप करना है। यह उपाय करने से आपको सफलता जरुर प्राप्त होगी।

 फूल, फल और मिठाई भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी को अर्पित करके उनकी पूजा कीजिए। पूजा करने के बाद ॐ नारायणाय लक्ष्म्यै नमः मंत्र का जाप कीजिए।

अगर आपकी को इच्छा अधूरी रह गई है जिसे आप बरसों से पूरा करना चाहते हैं तो विजया एकादशी (Vijaya Ekadashi) पर भगवान विष्णु की प्रतिमा का अभिषेक दूध में केसर डालकर कीजिए। अभिषेक करने के बाद विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ कीजिए और अपनी इच्छा को भगवान विष्णु के सामने रखिए।

मान्यताओं के अनुसार भगवान विष्णु का वास पीपल के पेड़ पर होता है इसीलिए विजया एकादशी (Vijaya Ekadashi) पर पीपल के पेड़ की पूजा कीजिए। विजया एकादशी (Vijaya Ekadashi) पर यह उपाय करने से कर्ज से मुक्ति मिलती है।

विजया एकादशी (Vijaya Ekadashi) पर शाम के समय तुलसी के पास गाय के घी का दीपक जलाना चाहिए, यह उपाय करने से घर में सुख-शांति बनी रहती है।

विजया एकादशी व्रत मुहूर्त
एकादशी तिथि समाप्त- 09 मार्च 2021 दिन मंगलवार दोपहर 03 बजकर 02 मिनट पर
विजया एकादशी (Vijaya Ekadashi) पारणा मुहूर्त- 10 मार्च को सुबह 06:37:14 से 08:59:03 तक।

नोट- उपरोक्त दी गई जानकारी व सूचना सामान्य उद्देश्य के लिए दी गई है। हम इसकी सत्यता की जांच का दावा नही करतें हैं यह जानकारी विभिन्न माध्यमों जैसे ज्योतिषियों, धर्मग्रंथों, पंचाग आदि से ली गई है । इस उपयोग करने वाले की स्वयं की जिम्मेंदारी होगी ।

Next Post

मैं चलता

Tue Mar 9 , 2021
– उदयशंकर भट्ट 1898 को उत्तरप्रदेश के इटावा में जन्म। तक्षशिला, राका, मानसी, विसर्जन, अमृत और विष, इत्यादि, युगदीप, यथार्थ और कल्पना, विजयपथ, मुझमें जो शेष है आदि प्रमुख कृतियां। 1966 में निधन। मैं चलता ‘मैं चलता मेरे साथ नया सावन चलता है, मैं चलता मेरे साथ नया जीवन चलता […]