उत्तराखंड के 11 वें मुख्यमंत्री होंगे तीरथ सिंह रावत, शपथ ग्रहण समारोह आज

देहरादून । उत्तराखंड के 11 वें मुख्यमंत्री के तौर पर पौड़ी गढ़वाल से सांसद तीरथ रावत सिंह बुधवार शाम चार बजे राजभवन में शपथ लेंगे। उनके साथ कुछ मंत्री भी शपथ ले सकते हैं। तीरथ सिंह रावत ने राज्यपाल बेबी रानी मौर्य से मुलाकात कर उन्हें नए मंत्रिमंडल का प्रस्ताव सौंप दिया है। इस संबंध में भाजपा के 15 सदस्यीय प्रतिनिमंडल ने भी राज्यपाल बेबी रानी से मुलाकात कर विधानमंडल दल के नए नेता के नाम का पत्र सौंपा । नेता चुने जाने के बाद तीरथ सिंह ने कहा-मैंने कभी कल्पना नहीं की थी कि कभी इस जगह पहुंच सकता हूं। शपथ ग्रहण समारोह के मद्देनजर राजभवन में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं।

बुधवार को भाजपा प्रदेश मुख्यालय में आयोजित विधानमंडल दल की बैठक में कार्यवाहक मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने तीरथ सिंह रावत का नाम प्रस्तावित किया। इसका सभी नेताओं ने समर्थन किया। तीरथ सिहं का नेता चुना जाना सभी को चौंका गया, क्योंकि उनका नाम प्रमुख दावेदारों में शुमार नहीं किया जा रहा था। जनपद पौड़ी से तीरथ सिंह रावत उत्तराखंड के पांचवें मुख्यमंत्री बनने जा रहे हैं।

राज्यपाल से मिलने वाले में भाजपा अध्यक्ष बंशीधर भगत, त्रिवेन्द्र सिंह रावत, रमेश पोखरियाल निशंक, सांसद अजय भटृ, सांसद नरेश बंसल, यशपाल आर्य, सुबोध उनियाल, मदन कौशिक, विशन सिंह चुफाल, मेयर सुनील उनियाल गामा सहित अन्य शामिल रहे।

बैठक में छत्‍तीसगढ़ के पूर्व मुख्‍यमंत्री और उत्‍तराखंड के प्रभारी रमन सिंह, रमेश पोखरियाल के अलावा कार्यवाहक मुख्‍यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, प्रदेश अध्‍यक्ष बंशीधर भगत, दुष्‍यंत कुमार गौतम, यशपाल आर्य, रेखा आर्य, सांसद और विधायक मौजूद रहे।

त्रिवेन्द्र सरकार के विकास को ले जाएंगे आगे
विधानमंडल दल का नेता चुने जाने के बाद तीरथ सिंह रावत ने भाजपा दफ्तर में पत्रकारों को संबोधित किया। इस दौरान वह भावुक दिखे। उन्‍होंने कहा, ‘मुझे जो जिम्मेदारी मिली है उसे पूरी तरह से निभाऊंगा। हम लोगों की अपेक्षाओं को पूरा करने और पिछले चार सालों में त्रिवेन्द्र सरकार में किए गए कार्यों को आगे बढ़ाने की कोशिश करेंगे। उन्‍होंने कहा, ‘मुझे जो जिम्मेदारी मिली है उसे पूरी तरह से निभाऊंगा। हम आरएसस के कार्यकर्ता थे। पहले कभी भाजपा की जानकारी नहीं थी।

पीएम, शाह और पार्टी नेतृतव को अदा किया शुक्रिया
उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी और गृहमंत्री अमित शाह के पार्टी के शीर्ष व प्रदेश नेताओं को धन्यवाद किया हगै। उन्होंने कहा कि जिन्होंने मुझ पर भरोसा किया उस पर राज्य की जनता के लिए पूरी तरह से खरा उतरने का शतप्रतिशत प्रयास रहेगा।

कभी सोचा नहीं था यहां पहुंचेंगे
सांसद तीरथ सिंह रावत ने कहा कि वह साधारण पार्टी कार्यकर्ता हैं और एक छोटे से गांव से आते हैं। मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं यहां तक पहुंचूंगा।

उल्लेखनीय है कि केंद्रीय नेतृत्व से मुलाकात के बाद देहरादून लौटने पर मंगलवार शाम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। नया नेता चुनने के लिए बुधवार सुबह देहरादून में भाजपा विधानमंडल दल की बैठक बुलाई गई। बैठक में केंद्रीय पर्यवेक्षक के रूप में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह व प्रदेश भाजपा प्रभारी दुष्यंत कुमार गौतम मौजूद रहे। बैठक में सभी सांसदों को भी बुलाया गया।

कौन हैं तीरथ सिंह रावत
तीरथ सिंह रावत फरवरी 2013 से दिसम्बर 2015 तक उत्तराखंड भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष थे। वह चौबट्टाखाल से पूर्व विधायक (2012-2017) हैं। वर्तमान में तीरथ सिंह रावत भाजपा के राष्ट्रीय सचिव के साथ गढ़वाल लोकसभा से सांसद भी हैं। पौड़ी सीट से भाजपा के उम्मीदवार के अतिरिक्त 2019 के लोकसभा चुनाव में उन्हें हिमाचल प्रदेश का चुनाव प्रभारी भी बनाया गया था। तीरथ सिंह रावत वर्ष 2000 में नवगठित उत्तराखण्ड के प्रथम शिक्षा मंत्री चुने गए थे। इसके बाद 2007 में भारतीय जनता पार्टी उत्तराखण्ड के प्रदेश महामंत्री चुने गए। इसके बाद प्रदेश चुनाव अधिकारी और प्रदेश सदस्यता प्रमुख रहे। 2013 उत्तराखण्ड दैवीय आपदा प्रबंधन सलाहकार समिति के अध्यक्ष रहे। वर्ष 2012 में चौबटाखाल से विधायक निर्वाचित हुए और वर्ष 2013 में उत्तराखण्ड भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बने।

उनका जन्म उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल के असवालस्यूं के सीरों गांव में हुआ था। उनके पिता का नाम कलम सिंह रावत हैं। तीरथ साल 1997 में यूपी से विधायक चुने गए थे तब यूपी-उत्तराखंड का बंटवारा नहीं हुआ था। तीरथ सिंह ने पौड़ी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के मनीष खंडूड़ी को ढाई लाख से अधिक मतों से हराया था।

Next Post

ममता बनर्जी ने नंदीग्राम से भरा अपना नामांकन

Wed Mar 10 , 2021
नंदीग्राम। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को नंदीग्राम से अपना नामांकन भर दिया। ममता बनर्जी ने एसडीओ दफ्तर में पूरी प्रक्रिया के साथ अपना पर्चा भरा। नामांकन से पहले ममता बनर्जी ने नंदीग्राम के सबसे पुराने शिव मंदिर के दर्शन किए और भगवान शिव की पूजा-अर्चना की। […]