कल दांगी यात्रा से होगा ‘अमृत महोत्सव’ का आगाज, प्रधानमंत्री होंगे शामिल

नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज़ादी की 75वीं वर्षगांठ पर आयोजित होने वाले ‘अमृत महोत्सव’ का आगाज शुक्रवार 12 मार्च को दांडी यात्रा को हरी झंडी दिखा कर करेंगे। यह यात्रा दो समूहों में आयोजित की जा रही है। पहली यात्रा गुजरात के साबरमती आश्रम से लेकर दांडी तक पूरी होगी और दूसरी पद यात्रा 75 किलोमीटर की होगी जिसमें संस्कृति व पर्यटन मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल स्वयं हिस्सा लेंगे। यह यात्रा नाडियाड में संपन्न होगी।

संस्कृति व पर्यटन मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल ने गुरुवार को बताया कि शुक्रवार से गुजरात से शुरू होने वाले इस अमृत महोत्सव की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी करेंगे। शुक्रवार से देश के 75 स्थानों पर एक साथ कई कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। देश की आजादी के 75वें वर्ष में आयोजित होने वाले कार्यक्रम अमृत महोत्सव के तहत किए जाएंगे और इसे एक जनआंदोलन के रूप में मनाया जाएगा। उन्होंने बताया कि सभी राज्यों को कहा गया है कि वे अपने अपने राज्य में इस महोत्सव के तहत कार्यक्रम की रूप रेखा तैयार कर इसकी शुरुआत करें। उन्होंने बताया कि शुक्रवार को दूसरे समूह में 12 राज्यों के लोगों के साथ दांडी यात्रा पर निकलेंगे और नाडियाड पर 16 मार्च को समापन करेंगे।

इस दौरान जहां जहां वे पैदल यात्रा कर गुजरेंगे वहां कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। दिल्ली में अमृत महोत्सव के तहत आयोजित होने वाले कार्यक्रम के सवाल पर उन्होंने कहा कि दिल्ली में कनॉट प्लेस में एक समारोह का आयोजन किया जाना है। गुजरात और मध्यप्रदेश ने राज्य के स्तर पर 75-75 स्थानों का चयन किया है। इसके साथ सभी राज्य अपने अपने राज्यों की जानकारी केन्द्र को भेज रहे हैं।

क्या है दांडी यात्रा का इतिहास
नमक सत्याग्रह के नाम से इतिहास में चर्चित दांडी यात्रा की शुरुआत 12 मार्च, 1930 में गांधी जी के नेतृत्व में हुई थी। 24 दिनों तक चली यह पद-यात्रा अहमदाबाद के साबरमती आश्रम से शुरू होकर नवसारी स्थित छोटे से गांव दांडी तक गई थी। यह आंदोलन नमक पर ब्रिटिश राज के एकाधिकार के विरोध स्वरूप था।

Next Post

उइगरों मुसलमानों पर हो रहे अत्‍याचार के खिलाफ अमेरिका करेगा चीन से बात

Thu Mar 11 , 2021
वाशिंगटन। लंबे समय के बाद चीन के साथ अमेरिका की 18 मार्च को अलास्का के एंकोरेज में आमने-सामने वार्ता होगी। अमेरिका ने स्पष्ट कर दिया है कि वह उइगरों के नरसंहार पर चीन के साथ सख्ती से बात करेगा। वार्ता में ताइवान, तिब्बत, हांगकांग और दक्षिण चीन सागर जैसे कई […]