आज शिवरात्रि है

– रामदरश मिश्र

15 अगस्त 1924 को उत्तरप्रदेश के गोरखपुर में जन्म। बैरंग-बेनाम चिट्ठियाँ, पक गयी है धूप, कंधे पर सूरज, हंसी ओठ पर आँखें नम हैं आदि प्रमुख कृतियां। शलाका सम्मान से सम्मानित।

शिवरात्रि
आज शिवरात्रि है
शहर के बंद कमरे में बैठा हुआ
जान रहा हूँ कि आज शिवरात्रि है
बाहर सड़क से कुछ अधेड़ नारी-नर जा रहे होंगे मंदिर को
फूल-मालाएँ और लोटे में पानी लेकर
लेकिन मेरा मन है कि बंद होना जानता नहीं
वह त्योहारों को उड़ता हुआ चला जाता है-
वहाँ, जहाँ त्योहार प्रकृति के रंग में रँगे होते हैं
फागुन में पड़ने वाले इस त्योहार का तो कहना ही क्या
रंग-बिरंगे परिधानों में सजी युवा लड़कियाँ
जा रही होती थीं शिव-मंदिर की ओर गाती हुई
‘पूजहु शिव को बहुभाँती आज शिवराती’
वे मन ही मन मनोकामना का रंग मिल जाता था
खेतों में उमड़ी हुई फसलें
रंग-बिरंगे फूलों के स्वर में गा रही होती थीं-
किसानों के लिए शिव गीत
फागुनी हवाएँ फसलों की सुगंध लिये आती थीं
और गाँव में बिखेर देती थीं
लगता था फसलों के ऊपर वितान तना है आभा का
किसी पेड़ से कोई कोकिल कूक उठता था
और आस-पास का प्रांतर गूँज उठता था-
कुऊ…कुऊ…कुऊ… से
थोड़ी दूर खड़ी होली का उल्लास
इस दिन के उल्लास में मिल जाता था
तो शिवरात्रि का दिन
केवल पूजा का दिन नहीं होता था
वह प्राकृतिक और मानवीय छवियों के
मिलन का भी दिन होता था
ऋतु का संगीत उसमें गूँजता रहता था।

Next Post

महाशिवरात्रि पर ताजमहल में हिंदूवादी संगठन ने की पूजा, तीन गिरफ्तार

Thu Mar 11 , 2021
आगरा । महाशिवरात्रि के अवसर पर गुरुवार को हिन्दू महासभा की प्रांतीय अध्यक्ष मीना दिवाकर ने दो अन्य साथियों के साथ ताजमहल परिसर में पूजा करने का प्रयास किया लेकिन तभी सुरक्षा में तैनात सीआईएसएफ के जवानों ने उन्हें हिरासत में ले लिया। काफी देर पूछताछ करने के बाद इन्हें […]