आज है शनिश्चरी अमावस्या, इन उपायों से शनिदेव की होगी कृपा

शनिश्चरी अमावस्या आज है और हिंदू धर्म में शनिश्चरी अमावस्या (Shanishchari Amavasya ) का विशेष महत्‍व  है । आज का दिन शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए बहुत ही शुभ है । आपको बता दें कि फाल्‍गुन मास (Falgun) की अमावस्‍या को शास्‍त्रों में धार्मिक दृष्टि से बहुत खास माना गया है जब यह अमावस्‍या शनिवार के दिन होती है तो इसका महत्‍व भी बढ़ जाता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, शनिश्चरी अमावस्या के दिन शनि देव की पूजा करने और कुछ विशेष उपाय करने से कुण्डली में शनि दोष से बचने के लिए कई उपाय किये जातें हैं । इस बार की शनिश्‍चरी अमावस्‍या को सूर्यग्रहण के समान ही महत्‍वपूर्ण माना जा रहा है। इस बार अमावस्‍या पर कुछ उपाय करने से पितरों के साथ-साथ शनिदेव (Shani Dev) को भी प्रसन्‍न किया जा सकता है। आइए जानते हैं क्‍या हैं ये उपाय ।

शनि अमावस्या का महत्व
फाल्गुन मास की कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि का विशेष धार्मिक महत्व माना गया है। इस दिन व्रत रखने की भी परंपरा है। अमावस्या पर की जाने वाली पूजा से पितर प्रसन्न होते हैं। वहीं जीवन में आने वाली बाधाएं दूर होती हैं। शनिवार के दिन अमावस्या की तिथि होने के कारण यह दिन शनि देव की पूजा के लिए भी उत्तम माना गया है। शनिवार का दिन शनिदेव को समर्पित है। जिन लोगों पर शनि की साढ़ेसाती शनि की ढैय्या चल रही है, उन्हें इस शनि अमावस्या पर शनि देव की पूजा करने से लाभ प्राप्त होता है।

अमावस्‍या के दिन उड़द का दान करना बेहद शुभ माना जाता है। इस बार य‍ह शनिवार को पड़ने की वजह से इस दिन काले तिल या फिर काले उड़द का दान करना चाहिए। काले तिल का दान करने से आपके ऊपर से शनि की दशा के दुष्‍प्रभाव कम होते हैं साथ ही आयु में भी वृद्धि होती है। जो लोग शनि की दशा की वजह से लगातार आर्थिक नुकसान झेल रहे हैं उन्‍हें भी ऐसा करने से लाभ होता है धन में वृद्धि होती है।

अमावस्‍या के दिन शमी का पौधा लगाना बेहद शुभ माना जाता है जिनके घर में पहले से लगा हुआ है वह इस दिन शमी के पेड़ के नीचे सरसों के तेल या फिर तिल के तेल का दीपक जलाकर पूजा करें। ऐसा करना आपको शनिदेव की कृपा का पात्र बनाता है हर प्रकार के शनि के अशुभ प्रभाव दूर होते हैं। शमी के पेड़ की पूजा करने से भगवान शिव भी आपसे प्रसन्‍न होकर आपकी मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं। अगर आपके घर में शमी का पेड़ सूख रहा है या फिर मुरझा रहा है कि तो इसे हटाकर इसके स्‍थान पर दूसरा पौधा लगा देना चाहिए।

शनि अमावस्‍या के दिन नारियल का यह उपाय भी बेहद कारगर माना जाता है। साबूत नारियल काटकर उसमें शक्कर, आटा, तिल भरकर मुंह को थोड़ा खुला छोड़कर नारियल को सुनसान स्थान में जमीन में इस तरह दबाएं कि कुछ भाग दिखता रहे। लाल किताब में बताया गया है कि शनि शांति के लिए यह बहुत ही लाभप्रद उपाय है।

शिवजी को शनि अपना गुरु मानते हैं, इसलिए शिवजी को प्रसन्‍न करने से शनिदेव भी प्रसन्‍न होते हैं। शनि अमावस्‍या के दिन किसी शिव मंदिर में जाएं ओम नम: शिवाय मंत्र का जप करते हुए गाय के कच्चे दूध, दही, शहद से शिवजी का अभिषेक करें उन्हें काले तिल अर्पित करें। ऐसा करने से आपको शनि की दशा में भी राहत मिलती है। इसके अलावा अमावस्‍या के दिन आप अपने पूर्वजों के निमित्‍त किसी जरूरतमंद साधु-संत को उनकी पसंदीदा वस्‍तुएं भी दान कर सकते हैं। ऐसा करने से पितरों का आशीर्वाद आपको प्राप्‍त होता है।

नोट- उपरोक्त दी गई जानकारी व सूचना सामान्य उद्देश्य के लिए दी गई है। हम इसकी सत्यता की जांच का दावा नही करतें हैं यह जानकारी विभिन्न माध्यमों जैसे ज्योतिषियों, धर्मग्रंथों, पंचाग आदि से ली गई है । इस उपयोग करने वाले की स्वयं की जिम्मेंदारी होगी ।

Next Post

देश का पहला सेंट्रलाइज्ड एसी रेलवे टर्मिनल उद्घाटन के लिए तैयार

Sat Mar 13 , 2021
नई दिल्ली । देश का पहला पूर्ण वातानुकूलित सर एम. विश्वेश्वरैया टर्मिनल, बेंगलुरु में बनकर तैयार हो गया है। रेलवे स्टेशन पर यात्रियों को एयरपोर्ट की तर्ज पर सेंट्रलाइज्ड एसी, वीआईपी लॉन्ज और डिजिटल रियल टाइम पैसेंजर इंफॉर्मेसन सिस्टम जैसी अत्याधुनिक सुविधाएं मिलेंगी। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने शनिवार को […]