आईएसएल-7 : बिपिन के विनिंग गोल से मुम्बई पहली बार बना चैम्पियन

गोवा। इस सीजन में हैट्रिक लगाने वाले बिपिन सिंह द्वारा 90वें मिनट में मिनट में किए गए मैच विनिंग गोल के दम पर मुम्बई सिटी एफसी ने शनिवार रात फातोर्दा के जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में खेले गए हीरो इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के सातवें सीजन के फाइनल में मौजूदा चैम्पियन एटीके मोहन बागान को 2-1 से हराकर पहली बार आईएसएल चैम्पियन बनने का गौरव हासिल कर लिया।

एटीके मोहन बागान के लिए डेविड विलियम्स ने 18वें मिनट में गोल किया, जबकि मुम्बई सिटी एफसी का पहला गोल विपक्षी टीम के खिलाड़ी टिरी ने 29वें मिनट में आत्मघाती गोल के रूप में किया। वहीं, बिपिन ने 90वें मिनट में टीम को पहली बार आईएसएल चैम्पियन बनाने वाला गोल किया। इस हार के साथ एटीके मोहनन बागान का लगातार दूसरी बार और कुल तीसरा आईएसएल खिताब जीतने का सपना टूट गया।

दोनों टीमों के बीच पहला हाफ 1-1 की बराबरी पर समाप्त हुआ। डेविड विलियम्स ने लगातार तीसरे मैच में गोल करते हुए एटीकेएमबी को आगे किया। यह गोल 18वें मिनट में हुआ। एटीकेएमबी के लिए सबकुछ अच्छा चल रहा था लेकिन 29वें मिनट में टिरी ने आत्मघाती गोल करते हुए मुम्बई को खुश होने का कारण दे दिया। मुम्बई की टीम का 68 फीसदी बाल पजेशन के साथ इस हाफ में वर्चस्व रहा लेकिन इसके बावजूद वह अब तक गो नहीं कर पाई।

दोनो टीमों ने दो-दो शाट्स टारगेट पर लगाए लेकिन तमाम हमलों के बावजूद दोनों टीमें एक भी कार्नर नहीं हासिल कर सकीं। 11वें मिनट में प्रीतम कोटाल द्वारा बिपिन सिंह को पेनाल्टी एरिया में गिराए जाने पर मुम्बई ने पेनाल्टी की मांग की लेकिन रेफरी ने उसे नकार दिया। 12वें मिनट में एटीकेएमबी के लिए जेवियर हर्नांदेज ने फ्रीकिक लिया। उनका फ्रीकिक सटीक था लेकिन गेंद क्रासबार से टकराकर दिशाहीन हो गई। विलियम्स ने हालांकि 18वें मिनट में गोल करते हुए एटीकेएमबी को आगे कर दिया।

विलियम्स ने बाक्स के बाहर से बाल अपने कब्जे में लिया और फिर पोस्ट के राइट कार्नर में डालकर अपनी टीम को 1-0 से आगे कर दिया। इसके 11 मिनट बाद टिरी ने आत्मघाती गोल कर मुम्बई को बराबरी का मौका दे दिया। टिरी ने हेडर के जरिए गेंद को दिशाहीन करने का प्रयास किया था लेकिन दुर्भाग्य से गेंद पोस्ट में चली गई। 31वें मिनट में अरिंदम ने एक बेहतरीन सेव करते हुए मुम्बई को लीड लेने से रोका।

36वें मिनट में एडम लेफोंड्रे और बिपिन के पास मुम्बई को एक बार फिर लीड दिलाने का मौका था लेकिन बिपिन के शाट में वह दम नहीं था जो अरिंदम को छका सके। हाफ टाइम से ठीक पहले मुम्बई के अमय राणावड़े चोटिल हो गए और उन्हें चिकित्सा सुविधा के लिए ले बाहर ले जाया गया।

मुम्बई ने दूसरे हाफ में अमय की जगह मोहम्मद रकीप को मैदान पर उतारा। 58वें मिनट में मुम्बई के हुगो बोउमस अपनी टीम को बढ़त दिलाने का गोल्डन चांस गंवा बैठे और बॉक्स के बाहर से लगाया गया उनका शॉट क्रासबार के ऊपर से निकल गया। तीन मिनट बाद ही जेवियर हर्नांडेज के फ्रीकिक पर मुम्बई के रकीप बॉल को अपने ही नेट में दे मारे, हालांकि उससे पहले ही लाइन्समैन ने इसे ऑफसाइड करार दे दिया क्योंकि कृष्णा ऑफसाइड पाए गए।

72वें मिनट में हर्नांडेज ने बॉक्स के बाहर एक तेज तर्रार शॉट लगाया, लेकिन चौकन्ने और मुस्तैद खड़े अमरिंदर सिंह ने इसे बेहतरीन तरीके से क्लीयर करके एटीके मोहन बागान को बढ़त लेने से रोक दिया। इसके बाद भी दोनों टीमों ने अपना आक्रमण जारी रखा।

इसी बीच, 90वें मिनट में एटीके मोहन बागान के गोलकीपर अरिंदम बॉल को रोकने के प्रयास में काफी आ गए और गोलपोस्ट खाली हो गया। बार्थोमोलेव ओग्बेचे ने गोल पोस्ट के करीब ही थे और उन्होंने बॉल को बिपिन सिंह की तरफ पास दिया। इस सीजन में हैट्रिक लगाने वाले बिपिन ने शानदार तरीके से गोल करते हुए मुम्बई को 2-1 की बढ़त दिला दी।

इसके कुछ देर बाद ही रेफरी के अंतिम व्हिसल बजाने के साथ ही मुम्बई सिटी एफसी के सभी खिलाड़ी और स्पोर्ट स्टाफ खुशी से झूम उठे और उन्होंने 2-1 की जीत के साथ आईएसएल में पहली बार चैम्पियन बनने का गौरव हासिल कर लिया।

Next Post

रोड सेफ्टी वर्ल्ड सीरीज : इंडिया लेजेंड्स सेमीफाइनल में, पांच मैचों में दर्ज की चौथी जीत

Sun Mar 14 , 2021
रायपुर। पांच मैचों में चौथी जीत के इंडिया लेजेंड्स टीम रोड सेफ्टी वर्ल्ड सीरीज के सेमीफाइनल में पहुंच गई है। सचिन तेंदुलकर की कप्तानी वाली इस टीम ने शनिवार रात दक्षिण अफ्रीका को 57 रनों से हराया। इस जीत के साथ इंडिया लेजेंड्स के 16 अंक हों गए हैं। उसके […]