आज है कामदा सप्‍तमी, सूर्यदेव की पूजा में जरूर करें ये उपाय

आज यानि 20 मार्च को मनाई जा रही है कामदा सप्‍तमी और मान्‍यता के अनुसार कामदा सप्‍तमी का व्रत भगवान सूर्यदेव को समर्पित है । आज भक्तों ने सूर्य देव को प्रसन्न करने हेतु व्रत रखा है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, जिन जातक की जन्मपत्री में सूर्य नीच का हो वो अक्सर ही परेशान रहता है और उसके छोटे छोटे कामों में बाधाएं आती हैं। ऐसे जातकों ने ही आज कामदा सप्तमी का व्रत रखा है। इस व्रत को सालभर तक रखा जाता है। हर शुक्ल सप्तमी के दिन कामदा सप्तमी का व्रत रखा जाता है। कामदा सप्तमी व्रत की महानता स्वयं ब्रह्मा जी ने स्वयं अपने मुख से भगवान विष्णु को बतायी थी। माना जाता है कि इस व्रत को करने से संतान सुखी रहती है, धन, आयु और वैभव बढ़ता है ।

जानें पूजा विधि 
कामदा सप्तमी से एक दिन पूर्व यानी किषष्ठी को एक समय भोजन करके सप्तमी को निराहार रहकर, ‘खरखोल्काय नमः ‘ मन्त्र से सूर्य भगवान की पूजा की जाती है और अष्टमी को अर्क (आक ) के पत्तों का सेवन करना चाहिए। प्रातः स्नानादि के बाद सूर्य भगवान् की पूजा की जाती है सारा दिन “सूर्याय नमः” मन्त्र से भगवान् का स्मरण किया जाता है। अष्टमी को स्नान करके सूर्य देव का हवन पूजन किया जाता है ।  सूर्य भगवान् का पूजन करके आज घी , गुड़ इत्यादि का दान किया जाता है तथा दूसरे दिन ब्राह्मणों का पूजन करके खीर खिलाने का विधान है ।

खरखोल्काय नमः

 सूर्याय नमः

ॐ घृ‍णिं सूर्य्य: आदित्य:

 ॐ ह्रीं ह्रीं सूर्याय सहस्रकिरणराय मनोवांछित फलम् देहि देहि स्वाहा

ॐ ऐहि सूर्य सहस्त्रांशों तेजो राशे जगत्पते, अनुकंपयेमां भक्त्या, गृहाणार्घय दिवाकर:

नोट- उपरोक्त दी गई जानकारी व सूचना सामान्य उद्देश्य के लिए दी गई है। हम इसकी सत्यता की जांच का दावा नही करतें हैं यह जानकारी विभिन्न माध्यमों जैसे ज्योतिषियों, धर्मग्रंथों, पंचाग आदि से ली गई है । इस उपयोग करने वाले की स्वयं की जिम्मेंदारी होगी ।

Next Post

मप्र में फिर बन रही संकट की स्थिति, सभी अनिवार्य रूप से लगाएं मास्क: सीएम शिवराज

Sat Mar 20 , 2021
भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण लगातार गंभीर हो रहा है। प्रदेश में एक बार फिर संकट की स्थिति बन रही है। कोविड-19 के बढ़ते प्रकरणों को देखते हुए प्रदेश के इंदौर, भोपाल एवं जबलपुर शहरों में शनिवार रात 10.00 बजे से सोमवार प्रात: […]