भाजपा में शामिल हुए तृणमूल सांसद शिशिर अधिकारी

कोलकाता । विधानसभा चुनाव (Assembly elections) से पहले राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Chief Minister Mamata Banerjee) को भाजपा (BJP) ने आज एक और बड़ा झटका दिया है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Union Home Minister Amit Shah) की पहल पर तृणमूल कांग्रेस (Trinamool Congress) के वरिष्ठ सांसद शिशिर अधिकारी (shishir adhikari) भी भाजपा में शामिल हो गए हैं।

रविवार को पूरब मेदिनीपुर के एगरा में केन्द्रीय मंत्री अमित शाह की जनसभा के दौरान तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ सांसद शिशिर अधिकारी मंच पर मौजूद रहे। जनसभा के दौरान अमित शाह की मौजूदगी में तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ सांसद शिशिर को भाजपा की सदस्यता दिलाई। शिशिर शुभेंदु अधिकारी के पिता हैं। शुभेन्दु नंदीग्राम में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के खिलाफ भाजपा के उम्मीदवार हैं।

इस अवसर पर अमित शाह ने ममता बनर्जी पर जमकर हमला बोला।शाह ने कहा कि दीदी की सरकार ने बंगाल में किसी का भी भला नहीं किया। आप कम्युनिस्टों से परेशान थे, दीदी ने परिवर्तन का नारा दिया, लेकिन परिवर्तन हुआ है क्या ? उन्होंने कहा कि पहले भी घुसपैठिए आते थे और अब भी आ रहे हैं। उन्होंने बंगालवासियों से आग्रह किया कि बंगाल में भाजपा की सरकार बनाएं, पांच साल में बंगाल को घुसपैठियों से मुक्त कर देंगे। अमित शाह ने कहा, “बंगाल में हर जगह कट मनी है। गरीब के लिए 500 रुपये बहुत बड़ी चीज होती है। उन्होंने कहा कि इस बार टीएमसी के गुंडे आपको वोट डालने से रोक नहीं पाएंगे, दीदी के गुंडें आपका कुछ नहीं बिगाड़ पाएंगे, उन्हें दिन में तारे दिखाई देंगे। उन्होंने कहा कि हमारे 130 कार्यकर्ताओं की हत्या की गई है। 02 मई को जब भाजपा की सरकार बनेगी, हमारे कार्यकर्ताओं को मारने वालों को पताल से भी ढूंढ निकालेंगे।

इस अवसर पर शिशिर अधिकारी ने कहा कि उनका परिवार भाजपा के साथ है और रहेगा। बंगाल में भाजपा की सरकार बनेगी। अमित शाह के मंच के सांसद सचिव अधिकारी ने कहा कि बंगाल को अत्याचार से मुक्त करने के लिए परिवर्तन जरूरी है।

Next Post

इतिहास में है ऐसे घपलों की नींव !

Sun Mar 21 , 2021
– डॉ. प्रभात ओझा मुंबई पुलिस कमिश्नर पद से होमगार्ड में भेज दिए गए आईपीएस अफसर परमवीर सिंह ने महाराष्ट्र के अपने मंत्री पर ही भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए हैं। एक मातहत निर्वाचित नेता पर आरोप लगाए, यह बात जितनी गंभीरता से ली जानी चाहिए, अब वैसा होता नहीं। […]