आखिर क्‍यों गोल होता है कुंआ ? यह है कारण…

नई दिल्ली । आज के जमाने में लोगों के घरों में पानी पहुंचने के लिए पाइपलाइन्स लगी हुई हैं. पम्प चलाकर ऊंची-सी ऊंची जगहों पर आसानी से पानी पहुंचाया जा सकता है. अभी भी गांव के कई इलाकों में कुएं (well) का चलन है और उसी में से पीने का पानी यूज भी किया जाता है. हालांकि अब शहरों, कस्बे समेत उसके आसपास इलाकों में कुएं (well) की संख्या कम होती जा रही हैं या फिर खत्म हो जा रही हैं. कहीं कुएं (well) पाट दिए जा रहे हैं तो कई जगहों पर कुएं (well) सूख भी गए हैं. कुछ साल पहले तक पूरा का पूरा गांव या कस्बों की आपूर्ति एक या दो कुएं (well) से ही हो जाती थी. रोजाना पीने के पानी के लिए कुएं (well) को ही इस्तेमाल किया जाता रहा है. लेकिन क्या कभी आपने यह सोचा है कि आखिर कुएं (well) का आकार गोल ही क्यों बनाया जाता है?

गोल कुएं (well) बनाए जाने के पीछे क्या कारण?
कुएं (well) के आकार को गोल बनाने के पीछे कुछ वैज्ञानिकी कारण है. इसका मुख्य कारण यह है कि जब भी कुएं (well) के भीतर यदि पानी उफाल लेता है तो वह उसी घेरे में घूम जाता है और घूमते हुए ऊपर तक आ सकता है, लेकिन यदि यह चौकोर हो तो निचली दीवार को कमजोर कर सकता है. कुएं (well) के गोल होने का फायदा यह भी है कि पानी कुएं (well) की दीवार में टकराएगा नहीं, बल्कि घूम जाएगा और तेज बहाव के कारण दीवार का टूटने का खतरा बेहद कम होता है.

पानी स्टोर करने के दौरान मजबूती
कुएं (well) की खुदाई के वक्त गोल आकार में आसानी से ड्रिल किया जा सकता है. कुएं (well) में पानी स्टोर करने के दौरान मजबूती गोल आकार में मिल पाती है, जबकि अगर कुएं (well) को चौकोर आकार में बनाएंगे तो पानी प्रेशर चारों कोनों पर पड़ेगा, इससे दीवार कमजोर होने का डर बना होता है. इतना ही नहीं, गोल बनाने की वजह से कुआं लंबे समय तक धंसता नहीं. यदि कुआं चौकोर बनाया जाएगा तो चार दीवारें होंगी और यदि उनमें से कोई भी हिस्सा गिरता है तो पूरे कुएं (well) को खराब कर सकता है. गोल कुआं ज्यादा प्रेशर को झेलने में सक्षम होता है.

Next Post

ओटीटी प्लेटफॉर्म, डिजिटल मीडिया के लिए जारी हुए नए नियम, अब सख्त होगी निगरानी

Fri Mar 26 , 2021
नई दिल्‍ली । केंद्र सरकार ने ओटीटी प्लेटफॉर्म (OTT Platform), डिजिटल समाचार (Digital news) प्रकाशकों के लिए सूचना प्रौद्योगिकी (मध्यवर्ती दिशानिर्देश और डिजिटल मीडिया आचार संहिता) नियम 2021 को अधिसूचित कर दिया है। नए नियमों के तहत ओटीटी प्लेटफॉर्म और डिजिटल समाचार प्रकाशकों को त्रिस्तरीय शिकायत निवारण तंत्र स्थापित करना […]