फागुन

– श्रीकांत वर्मा

18 सितम्बर 1931 को छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में जन्म। भटका मेघ, मायादर्पण, दिनारम्भ, जलसाघर, मगध आदि प्रमुख कृतियां। साहित्य अकादमी पुरस्कार सहित अनेक सम्मान व पुरस्कार। वर्ष 1986 में निधन।

काव्यांश

फागुन

अपनी दुबली अंगुली से जब यह जादूगर
कहीं तमतमायी
दुपहर को छू देता है,
महुए के फूल कहीं चुपके चू जाते हैं
और किसी झुंझकुर से चिड़िया उड़ जाती है।
अह। इसकी वंशी सुन….।।

जब फगुनी हवा कहीं
मोरों के गुच्छ हिला
ताल तलैया नखा तीर पर टहलती है
ऋतु की सुधियां शायद
टेसू बनकर, वन वन
शाख पर सुलगती हैं।

दिन जब टूटे पीले पत्ते सा कांप कहीं
ओझल हो जाता है
संझा जब उमसायी, किसी
ताल-तीर बांस झुरमुट से झांक मुंह दिखाती है,
सरसों के खेतों में पीली
जब एक किरन
गिर गुम हो जाती है,
मेड़ों पर जब जल्दी-जल्दी
कोई छाया
आकुल दिख पड़ती है,
दूर किसी जंगल से मंदरी यह आता है
धिंग धिंग धा धा धिंग धा
धा धिंग धा धा धिंग धा
मांदल धमकाता है,
हौले हौले घर-आंगन में छा जाता है।
इस सूने जीवन में बांसुरी बजाता है।
अह! आह इसकी वंशी सुन…।
फागुन भी नटुआ है, गायक है, मंदरी है।
अह। इसकी वंशी सुन
सुधियां बौराती हैं।

Next Post

राष्ट्रपति की हालत स्थिर, शुभ-चिंतको के प्रति जताया आभार

Sat Mar 27 , 2021
नई दिल्ली । राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद (President Ram Nath Kovind) की हालत स्थिर बनी हुई है और डॉक्टर उनके स्वास्थ्य की निगरानी कर रहे हैं। शनिवार को राष्ट्रपति ने यह जानकारी देते हुए अपने शुभ-चिंतको के प्रति धन्यवाद व्यक्त किया। कोविंद को सीने में दर्द (Chest pain) की शिकायत […]