छाछ का इस तरह कर लें सेवन, फिर फायदें देख चौंक जाओगे

आमतौर पर छाछ पीना लगभगव सभी को पसंद होता है लेकिन क्‍या आपने छाछ पीने के कई फायदे जानतें हैं। छाछ न सिर्फ आपका मोटापा (obesity) कम कर सकता है बल्कि आपके चेहरे पर निखार भी ला सकता है। छाछ में विटामिन ए, बी, सी, ई और के मौजूद होता है जो शरीर के पोषक तत्वों की कमी पूरी करने में मदद करता है। छाछ में मौजूद हेल्दी बैक्टीरिया, कार्बोहाइड्रेट और लेक्टोज (Carbohydrates and Lactose) शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाकर रोगों से लड़ने में मदद करते हैं। आइए जानते हैं छाछ को रोजाना की डाइट में शामिल करने से मिलते हैं कौन से लाभ।

बहुत अधिक मसालेदार खाना खाने से पेट में होने वाली जलन को शांत करने में छाछ बेहद फायदेमंद होती है। मसालेदार खाना पेट में सूजन का कारण बनता है। एक गिलास छाछ पीने से मसाले के प्रभाव को बेअसर करने में मदद मिलती है और पेट की जलन शांत होती है।

छाछ कोलेस्ट्रॉल को घटाने में एक प्राकृतिक औषधि का कार्य करता है। इसका नियमित सेवन करने से कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल में रहता है।

शरीर के पाचन (digestion) को बेहतर बनाने में छाछ बहुत फायदेमंद है। यह अपच की समस्या को हल करने में मदद करता है, क्योंकि यह प्रोबायोटिक्स में समृद्ध है जो शरीर में आंत के के विकास को बढ़ावा देता है। यह इस प्रकार शरीर की प्रतिरक्षा को भी बढ़ावा देने में मदद करता है।

भोजन के बाद छाछ का सेवन एसिडिटी (acidity) से तुरंत राहत प्रदान करने में मदद करेगा। इससे पेट की जलन से भी राहत मिलती है।

नियमित छाछ का सेवन करने से वजन घटाने में मदद मिलती है। छाछ में कैलोरी और फैट की मात्रा बहुत कम होती है। यह एक तरह से फैट बर्नर का काम करता है। इसके अलावा, छाछ में सक्रिय प्रोटीन में एक एंटीकैंसर, जीवाणुरोधी और एंटीवायरस की प्रभावकारिता होती है जो कोलेस्ट्रॉल(cholesterol) को नियंत्रित करने में मदद करती है।

बी, प्रोटीन, कैल्शियम और पोटैशियम जैसे कई पोषक तत्व मौजूद होते हैं। खाली पेट इसका सेवन करने से ये शरीर डिटॉक्सीफाई होने के साथ त्वचा भी भीतर से साफ़ होती है। छाछ का इस्तेमाल त्वचा से जुड़ी कई समस्याओं जैसे मुहांसों, रिंकल्स आदि को कम करने के लिए भी किया जाता है।

भरपूर मात्रा में कैल्शियम होने के कारण छाछ हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करती है। इसका नियमित सेवन ऑस्टियोपोरोसिस नाम की बीमारी से बचाता है।

नोट – उपरोक्‍त दी गई जानकारी व सुझाव सामान्‍य जानकारी के लिए हैं इन्‍हें किसी प्रोफेशनल डॉक्‍टर की सलाह के रूप में न समझें कोई भी बीमारी या परेंशानी हो तो डॉक्‍टर की सलाह जरूर लें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

बांग्लादेश में हिंदुओं के साथ मजहबी बर्बरता

Wed Aug 11 , 2021
कोलकाता । भारत की आजादी की लड़ाई का केंद्र बिंदु रहा अविभाजित बंगाल अब बंटकर बांग्लादेश और पश्चिम बंगाल रह गया है। बड़ी संख्या में हिंदू आबादी का क्षेत्र रहा यह इलाका आजादी के बाद बांग्लादेश में मुस्लिम बहुल होते ही हिंदुओं के लिए नर्क बन गया है। यहां लगातार […]