– अली खान हाल ही में ब्रिटेन की नेचुरल एन्वायरमेंट रिसर्च काउंसिल ने अपने एक अध्ययन में पाया है कि प्रकाश के रंगों और तीव्रता में बदलाव के कारण जीव-जंतुओं की दृष्टि पर जटिल और अप्रत्याशित प्रभाव पड़ रहा है। यह अध्ययन शोध पत्रिका ‘नेचर कम्युनिकेशन’ में प्रकाशित किया गया […]

– सियाराम पांडेय ‘शांत’ उत्तर प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, पश्चिम बंगाल समेत देश के कई राज्य आतंकवादियों के निशाने पर हैं। लखनऊ से अलकायदा से जुड़े दो आतंकवादियों को पकड़कर भारतीय सुरक्षा एजेंसियों ने एक बार फिर दहशतगर्दों के मंसूबों पर पानी फेर दिया है। एक ही दिन 11 जुलाई को कोलकाता […]

– डॉ. वेदप्रताप वैदिक परसों तक ऐसा लग रहा था कि अफगानिस्तान में हमारे राजदूतावास और वाणिज्य दूतावासों को कोई खतरा नहीं है लेकिन हमारा कंधार का दूतावास कल खाली हो गया। लगभग 50 कर्मचारियों और कुछ पुलिसवालों को आनन-फानन जहाज में बिठाकर नई दिल्ली ले जाया गया है। वैसे […]

– कुसुम चोपड़ा कहते हैं कि समय की सबसे खास बात यह होती है कि अच्छा हो या बुरा, यह गुजर ही जाता है। कोरोना के इस मुश्किल दौर में यह बात और भी महत्वपूर्ण हो जाती है, जब हम सब बेसब्री के साथ इस मुश्किल समय के गुजर जाने […]

– प्रमोद भार्गव जम्मू-कश्मीर में धारा-370 और 35-ए समाप्त होने के बाद ठिठकी हुई राजनीतिक प्रक्रिया शुरू होने के बाद परिसीमन आयोग ने भी चार दिन का दौरा करके परिसीमन की प्रक्रिया को आगे बढ़ाने का काम कर दिया है। मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने जम्मू-कश्मीर के 290 प्रतिनिधिमंडलों […]

– ललित गर्ग वर्षा ऋतु के चार महीने व्रत, भक्ति एवं धर्माराधना के लिये निर्धारित है, जिसे ‘चातुर्मास’ कहा जाता है। भारतीय धार्मिक और सांस्कृतिक परंपरा में चातुर्मास का विशेष महत्व है। हमारे यहां मुख्य रूप से तीन ऋतुएँ होती हैं- ग्रीष्म, वर्षा और शरद। वर्ष के बारह महीनों को […]

– डा. राजेन्द्र प्रसाद शर्मा दुनिया के देश इस समय गर्मी के तपन से तप रहे हैं। कनाडा में पारा 50 के पार चल रहा है तो अमेरिका सहित दुनिया के अधिकांश देश गर्मी से बेहाल हो रहे हैं। गर्मी के कारण लोगों की मौते हो रही है तो दूसरी […]

– सियाराम पांडेय ‘शांत’ जीत छोटी हो या बड़ी, उसका जश्न तो बनता ही है। हार और जीत दोनों ही मायने रखती है। जो जीतता है, वह जीत का बखान करता है और जो हारता है, वह पराजय का बचाव करता है। इसमें नया कुछ भी नहीं है। उत्तरप्रदेश में […]

– प्रमोद भार्गव असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने जनसंख्या नियंत्रण के परिप्रेक्ष्य में मुस्लिम बुद्धिजीवियों के साथ सकारात्मक बातचीत की है। मुस्लिम समाज से अपील के बाद 150 से अधिक बुद्धिजीवियों ने परिवार नियोजन अपनाने पर सहमति जताई है। दरअसल असम में मुस्लिमों की आबादी राज्य के कुछ […]

– मानवेंद्र सिंह मोदी सरकार के विस्तार में लिए गए निर्णय में जिस नए सहकारिता मंत्रालय की रचना की गई है, उसमें अपार संभावनाएं हैं। यह निर्णय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विगत 7 साल में लिए गए सबसे बड़े आधारभूत फैसलों में से एक है। विगत 7 साल में मोदी […]